बिहार

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
बिहार
—  राज्य  —
महाबोधि मंदिर, भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़ल चार पवित्र तीर्थन में से एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल घोषित[१]
महाबोधि मंदिर, भगवान बुद्ध के जीवन से जुड़ल चार पवित्र तीर्थन में से एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल घोषित[१]
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश  भारत
क्षेत्र अंग क्षेत्र, भोजपुरी क्षेत्र, मगध क्षेत्र, मिथिला क्षेत्र
जिला ३८
बिहार १९१२
राजधानी पटना
सबसे बड़ा नगर पटना
सबसे बड़ा महानगर पटना
राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी
मुख्य मंत्री नीतीश कुमार
मंत्रिमंडल सचिव अफ़ज़ल अमानुल्लाह
विधान सभा (सीटें) द्विसदन (२४३ + ९६)
संसदीय निर्वाचन क्षेत्र बिहार के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र
उच्च न्यायालय पटना उच्च न्यायालय
जिला न्यायालय
जनसंख्या
घनत्व
10,38,04637[२] (3rd)
• १,१०२ /कि.मी. (२,८५४ /वर्ग मी.)[२]
लिंगानुपात 916/1000 /
साक्षरता
• पुरुष
• महिला
63.82%%
• 73.39%%
• 53.33%%
आधिकारिक भाषा(एँ) हिन्दी (मुख्य), उर्दू (सहायक)
क्षेत्रफल ९४,१६३ कि.मी² (३६,३५७ वर्ग मील)
मौसम
वर्षा
तापमान
• ग्रीष्म
• शीत
ETh (कॉपेन)
     १,२०० mm (४७.२ in)
     27 °C (81 °F)
     34 °C (93 °F)
     10 °C (50 °F)
प्रशासी संस्था भारत सरकार, बिहार सरकार
ISO 3166-2 IN.BR
आधिकारिक जालस्थल: gov.bih.nic.in
बिहार प्रवेशद्वार: बिहार  
बिहार के मोहर

Erioll world.svgनिर्देशांक: 25°22′N 85°08′E / 25.37, 85.13


बिहार भारत के उत्तर के एक प्रान्त ह। बिहार जमीन के हिसाब से(३८२०२ वर्ग मीटर) भारत मे १२ वाँ राज्य अउर जनसंख्या के हिसाब से ३ रा राज्य ह। बिहार के ८५ प्रतिशत आबादी गाव में रहे ला। ५८ प्रतिशत बिहारी २५ साल के आयु से कम हँवें जवन भारत में सबसे जादा समानता में बा। बिहार में भोजपुरी, बज्जिका, मगही, मैथिली अउर अंगिका भाषा बोलल जाले।

भूगोल[संपादन]

मुख्य लेख: बिहार क भूगोल बिहार पश्चिम बंगाल अउर उत्तर प्रदेश के बीच में पडेला जेकरा वजह से एकर जलवायु,अर्थशास्त्र अउर संस्कृति में अच्छा स्थान मिलल बा। बिहार के उत्तर दिशा में नेपाल देश और दक्खीन में झारखण्ड हउए। बिहार के समतल क्षेत्र दो हिस्सा में बट्ट्ल बा, जेकरा बीच सेगंगा नदी,पश्चिम से पूरब दिशा में बहेली। बिहार मे जंगल ६७६४.१४ वर्ग मीटर मे फइलल बा,जवन पूरा भौगौलिक हिस्सा के ७.१ प्रतिशत हवे।

भाषा[संपादन]

मुख्य लेख: बिहारी भाषा

बिहार राज्य के अधिकृत सरकारी काम-काज के भाषा हिन्दी हवे अउरी दूसर का सरकारी भाषा उर्दू ह, जेकर प्रयोग मुख्य रूप से पढ़े-पढ़ावे, कानूनी काम-काज इत्यादि में ही होला। बिहारी लोगन के आपस के काम-धाम आ बात-चीत के माध्यम बा।

इतिहास[संपादन]

मुख्य लेख: बिहार क इतिहास

बिहार के महातम ना केवल अभिए बल्कि बहुत पहिले से हवे। प्राचीन भारत में लगभग ४७५ ई. तक यानि गुप्त वंश तक जेतना भी राजा भईलन उनकर बिहारे एगो राज्य रहल औरी जवन अपना ओर सभेके लुभवलस। एकर प्रमाण उ लोग के राजधानी से लगावल जा सकेला। पुरनका बिहार जेकरा में अंग (पूरबी बिहार), बिदेह (उत्तर बिहार), मगध (दखिन बिहार) अउर वैशाली/लिच्छवी (उत्तर बिहार) शामिल रहे, उ पुरनका भारत में शक्ति, ज्ञान अउर संस्कृति के केंद्र रहल। मगध से भारत के पहिलका सबसे महान साम्राज्य उभरल, जेकरा के सभे मौर्य साम्राज्य के नाम से जानत बा, उ संसार के वोह साम्राज्यन में रहे, जवन कि धरम का पालन करत रहे। मगध साम्राज्य पूरा दखिनी एशिया को एक राज के अन्दर कईले रहे। एह काम में मौर्य साम्राज्य के अलावे गुप्त राजवंश के भी खूबे योगदान रहे। बिहार जेकर राजधानी पटना ह, ओकरा के पाटलिपुत्र, कुसुमपुर नाम से भी जानल जाला, जवन कि भारतीय सभ्यता के बहुत खास केंद्र रहे के प्रसिद्धि हासिल कईले बा। एही क्रम में शिक्षा के महत्त्वपूर्ण केंद्र नालंदा विश्वविद्यालय के स्थान भी ना केवल भारत में ही अपितु पूरा विश्व में प्रसिद्ध बा।

प्राचीन काल[संपादन]

मुख्य लेख: बिहार के प्राचीन इतिहास

प्राचीन काल में मगध के साम्राज्य देश के सबसे शक्तिशाली साम्राज्यन में से एगो रहल। अहिजा से मौर्य वंश, गुप्त वंश तथा अन्य कई राजवंशकुल देश के अधिकतर हिस्सवन पर राज कइले। मौर्य वंश के शासक सम्राट अशोक के साम्राज्य पश्चिम में अफ़ग़ानिस्तान तक फैलल रहल। मौर्य वंश के शासन ३२५ ईस्वी पूर्व से १८५ ईस्वी पूर्व तक रहल। छठी आ पांचवी सदी इसापूर्व में अहिजा बौद्ध तथा जैन धर्मवन के उद्भव भईल। अशोक, बौद्ध धर्म के प्रचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभईले रहलन आ उ आपन लईका महेन्द्र के बौद्ध धर्म के प्रसार खातिर श्रीलंका भेजले। उ आपन लईका के पाटलिपुत्र (वर्तमान पटना) के एगो घाट से विदा कइले रहलन जवन महेन्द्र के नाम से अब भी महेन्द्रू घाट कहल जाला। बाद में बौद्ध धर्म चीन तथा चीन के रास्ते जापान तक पहुंच गईल।

बिहार के ऐतिहासिक नाम मगध रहल। बिहार के राजधानी पटना के ऐतिहासिक नाम पाटलिपुत्र ह।

मध्यकाल[संपादन]

मुख्य लेख: बिहार क मध्यकाल के इतिहास

बारहवीं सदी में बख्तियार खिलजी बिहार पर आधिपत्य जमा लिहले। उके बाद मगध देश के प्रशासनिक राजधानी ना रहल। जब शेरशाह सूरी, सोलहवीं सदी में दिल्ली के मुगल बाहशाह हुमायूँ के हरा के दिल्ली के सत्ता पर कब्जा कइले तब बिहार के नाम पुनः प्रकाश में आईल पर इ अधिक दिनन तक ना रह पावल। अकबर बिहार पर कब्जा करके बिहार के बंगाल में विलय कर दिहले। इके बाद बिहार के सत्ता के बागडोर बंगाल के नवाबन के हाथन में चल गईल। बिहार के अतीत गौरवशाली रहल बा।

आधुनिक[संपादन]

मुख्य लेख: बिहार क आधुनिक इतिहास

1857 के प्रथम सिपाही विद्रोह में बिहार के बाबू कुंवर सिंह महत्वपूर्ण भूमिका निभइले। 1912 में बंगाल के विभाजन के फलस्वरूप बिहार नाम के राज्य अस्तित्व में पुन आइल। 1935 में उड़ीसा इसे अलग कर दिहल गईल। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान बिहार के चंपारण के विद्रोह के, अंग्रेजवन के खिलाफ बग़ावत फैलावे में अग्रगण्य घटनावन में से एगो गिनल जायेला। स्वतंत्रता के बाद बिहार के एक और विभाजन भईल आ सन् 2000 में झारखंड राज्य इसे अलग कर दिहल गईल। भारत छोड़ो आंदोलन में भी बिहार के गहन भूमिका रहल।

बिहार के प्रशासनिक विभाजन[संपादन]

बिहार में 38 गो जिला आ 9गो प्रमंडल बा:

 
 
 
 
 
 
 
भारत
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
बिहार
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
प्रमंडल
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जिला
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
तहसिल
 
नगर निगम
 
 
 
नगर पालिका
 
नगर पंचायत
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
गाँव
 
 
 
 
 
 
 
वार्ड
बिहार के जिला मानचित्र
प्रमंडल मुख्यालय जिला
भागलपुर भागलपुर बाँका, भागलपुर
दरभंगा दरभंगा बेगुसराय, दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर
कोशी सहरसा मधेपुरा, सहरसा, सुपौल
मगध गया अरवल, औरंगाबाद, गया, जहानाबाद, नवादा
मुंगेर मुंगेर जमुई, खगडिया, मुंगेर, लखीसराय, शेखपुरा
पटना पटना भोजपुर, बक्सर, कैमुर, पटना, रोहतास, नालंदा
पूर्णिया पूर्णिया अररिया, कटिहार, किशनगंज, पूर्णिया
सारण छपरा गोपालगंज, सारण, सिवान
तिरहुत मुजफ्फरपुर पुर्वी चम्पारण, मुजफ्फरपुर, शिवहर, सीतामढी, वैशाली, पश्चिम चम्पारण

संदर्भ[संपादन]