अशोक

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
अशोक
चक्रवर्ती[1][2]
Indian relief from Amaravati, Guntur. Preserved in Guimet Museum.jpg
अमरावती, आंध्रप्रदेश (भारत) में लगभग 1ली सदी ई॰पू॰/ईसवी के एगो चित्र, बीच में शाईट अशोक के देखावल गइल बाटे।
3सरा मौर्य सम्राट
Reign लगभग 268 ई॰पू॰ — ल॰ 232 ई॰पू॰[3]
Coronation 268 ई॰पू॰[3]
Predecessor बिंदुसार
Successor दशरथ
Born 304 ई॰पू॰
पाटलिपुत्र, पटना
Died 232 ई॰पू॰ (उमिर 72)
पाटलिपुत्र, पटना
साथी असंधिमित्र
पत्नी
Issue
Dynasty मौर्य
Father बिंदुसार
Mother सुभद्रांगी
मौर्य शासक (३२२ ई॰पू॰ – १८० ई॰पू॰)
चंद्रगुप्त (३२२—२९७ ई॰पू॰)
बिंदुसार (२९७—२७२/२६८ ई॰पू॰)
अशोक (२७२/२६८–२३२ ई॰पू॰)
दशरथ (२३२—२२४ ई॰पू॰)
सम्प्राति (२२४—२१५ ई॰पू॰)
शालिशुक (२१५—२०२ ई॰पू॰)
देववर्मन (२०२—१९५ ई॰पू॰)
शतधन्वा (१९५—१८७ ई॰पू॰)
बृहद्रथ मौर्य (१८७—१८० ई॰पू॰)
पुष्यमित्र
(शुंग साम्राज्य)
(१८०—१४९ ई॰पू॰)

अशोक (304—232 ई॰पू॰),[4] मौर्य वंश के एगो भारतीय सम्राट रहलें जे ल॰ 268 से 232 ई॰पू॰ ले लगभग पुरा भारत पर राज कइलें।[5] भारत के महान सम्राट लोग में से एक, अशोक के राज उत्तर-पच्छिम में हिंदुकुश से ले के पूरुब में वर्तमान बांग्लादेश ले, आ दक्खिन के ओर आजकाल के तमिलनाडु आ केरल के कुछ हिस्सा छोड़ के बाकी पुरा भारत पर बिस्तार वाला रहल। एह राज के राजधानी मगध में पाटलिपुत्र (वर्तमान पटना) रहल आ उज्जैन आ तक्षशिला में क्षेत्रीय राजधानी रहलीं स।

सम्राट अशोक के समय में मौर्य साम्राज्य

अशोक के जीवन के सभसे बड़ी घटना कलिंग के लड़ाई रहल जेकरे बाद ऊ लड़ाई आ हत्या से बैराग ले के बौद्ध धरम अपना लिहलें आ शांति के परचार में लग गइलें। अशोक के समय में तीसरी बौद्ध संगीति पाटलिपुत्र में भइल आ ऊ भारत से बाहर के देस सभ में बुद्ध के उपदेश फइलावे खातिर धर्मप्रचारक भेजलें।

अशोक कई जगह पर खम्भा गड़ववलें जिनहन पर नैतिक उपदेश खोदवावल रहल। इन्हन के आज अशोक स्तंभ कहल जाला। भारत के राष्ट्रीय चीन्हा सारनाथ के अशोक स्तंभ से लिहल गइल बाटे।

नाँव[संपादन]

आदेशलेख सभ में अशोक नाँव दू बेर आइल बा, पहिला मास्की के लेख में, जहाँ सुरुआते देवनांपियस अशोकस से भइल बा, आ दुसरा बेर गुर्जरा के अभिलेख में अशोक नाँव आइल बा। अबतक के अनुमान से इहे साबित भइल बा की बाकी आदेशलेखन में जेकरा के पियदसिदेवानांपिय कहल गइल बा ऊ उहे राजा हवें जिनके बौद्ध ग्रंथन में अशोक बतावल गइल बा आ पुराणन में अशोकवर्द्धन कहल गइल बा।[6] हालाँकि, नीलकंठ शास्त्री के कहनाम बा कि पियदसि इनके असली नाँव रहल आ अशोक विरुद, या फिर अशोक असली नाँव रहल आ पियदसि विरुद रहल, ई बात तय कइल कठिन बा।[6]

इहो देखल जाय[संपादन]

संदर्भ[संपादन]

  1. Lars Fogelin (1 अप्रैल 2015); An Archaeological History of Indian Buddhism; Oxford University Press; pp. 81–; ISBN 978-0-19-994823-9. 
  2. Fred Kleiner (1 जनवरी 2015); Gardner’s Art through the Ages: A Global History; Cengage Learning; pp. 474–; ISBN 978-1-305-54484-0. 
  3. 3.0 3.1 Upinder Singh 2008, p. 331.
  4. Chandra, Amulya (2015-05-14); "Ashoka | biography - emperor of India"; Britannica.com; पहुँचतिथी 2015-08-09. 
  5. Thapur (1973), p. 51.
  6. 6.0 6.1 के ए नीलकंठ शास्त्री (2007); नंद-मौर्य युगीन भारत; मोतीलाल बनारसीदास; pp. 233–; ISBN 978-81-208-2104-0. 

 स्रोत सामग्री [संपादन]

बाहरी कड़ी[संपादन]

अशोक
Born: 304 BCE Died: 232 BCE
इनसे पहिले रहलें
बिंदुसार
मौर्य सम्राट
272–232 BCE
इनके बाद
दशरथ