यज्ञ

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
यग्य के दौरान हवन करत पंडित

यज्ञ, जग्य भा जग्गि, हिंदू धर्म में एगो धार्मिक अनुष्ठान हवे। यज्ञ के शाब्दिक अरथ 'अर्पण कइल, पूजन कइल आ समादर कइल' होला। आम तौर पर यज्ञ में देवता लोग के बिबिध प्रकार से पूजा कइल जाला, ओहके बाद अग्नि में बिबिध प्रकार के चीज मंत्र पढ़-पढ़ के हवन कइल जाला। मानल जाला कि ई अर्पित सामग्री, अग्नि देव द्वारा ओह सारा देव लोग ले पहुँचावल जाई।

यज्ञ, ब्याक्तिगत रूप से अकेले भी अग्नि के सोझा बइठ के कइल जा सके ला आ भारी ढंढकमंडल के साथ बिसाल आयोजन के रूप में भी हो सके ला जेह में हजारन लोग सामिल होखे।

संदर्भ[संपादन]