पहिली बौद्ध संगीति

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
राजगृह में पहिली बौद्ध संगीति, पेंटिंग नव जेतवन, श्रावस्ती

पहिली बौद्ध संगीति प्राचीन काल में बौद्ध धर्म के लोग के पहिला सम्मलेन रहे जवन गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण (मृत्यु) के कुछे समय बाद भइल।[1] एकर मकसद बुद्ध के शिक्षा के सही पालन करे खातिर उनहन के संकलन कइल रहे।

ई संगीति राजगृह (वर्तमान राजगीर, बिहार) में संपन्न भइल आ एकर अध्यक्षता महाकस्सप कइलें। कुछ ग्रंथ एकरा समय बुद्ध के मृत्यु से अगिला साल बतावे लें[2] आ ओह समय मगध के राजा अजातशत्रु रहलें।

एह संगीति में विनयपिटकसुत्तपिटक के संकलन कइल गइल।

इहो देखल जाय[संपादन]


फुटनोट[संपादन]

संदर्भ[संपादन]

  • शर्मा, चन्द्रधर (1998). भारतीय दर्शन:आलोचन और अनुशीलन (Hindi में). बनारस: मोतीलाल बनारसीदास. ISBN 8120821343. पहुँचतिथी 13 मई 2016.
  • शास्त्री, के॰ ए॰ नीलकांत (1 जनवरी 2007). नंद-मौर्य युगीन भारत (Hindi में). बनारस: मोतीलाल बनारसीदास. ISBN 8120821041. पहुँचतिथी 13 मई 2016.
  • सहाय, शिवस्वरूप (2008). प्राचीन भारतीय धर्म एवं दर्शन (गूगल पुस्तक) (Hindi में). बनारस: मोतीलाल बनारसीदास. ISBN 8120823680. पहुँचतिथी 13 मई 2016.