इलाहाबाद हाइकोर्ट

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
इलाहाबाद हाइकोर्ट क भवन

इलाहाबाद हाईकोर्ट (हिंदी:इलाहाबाद उच्च न्यायलय, अंग्रेजी:High Court of Judicature at Allahabad) सन १८६९ से इलाहाबाद में स्थित एगो हाइकोर्ट बाटे जेवना क न्याय क्षेत्र उत्तर प्रदेश हवे। ई भारत की सबसे शुरूआती हाइकोर्टन में से एगो हवे। एकर एगो खण्डपीठ लखनऊ में भी बाटे। इलाहाबाद हाईकोर्ट में जज लोगन का अधिकतम संख्या १६० बाटे जेवन भारत की कुल हाईकोर्टन में सबसे ढेर बा [१]

इतिहास[संपादन]

इलाहाबाद हाइकोर्ट क अस्थापना १८३४ में भारत की उत्तरी-पश्चिमी प्रान्तन खातिर भइल जब इहँवा गवर्नर क आसन अस्थापित भइल लेकिन एके कुछे दिन बाद आगरा भेज दिहल गइल। आगरा में १८६६ में एकर वर्तमान रूप में १८६१ की उच्च न्यायलय अधिनियम की तहत गठन भइल आ १८६९ में एके फ़िर से इलाहाबाद ले आवल गइल तबसे ई इलाहाबाद में स्थित बाटे।[२] सर वाल्टर मोर्गन एकर पहिला मुख्य न्यायाधीश रहलें।

एकर वर्तमान भवन बनला से पहिले ई इलाहाबाद इन्वर्सिटी की दरभंगा हाल में रहे जहाँ आजकाल इन्वर्सिटी की रजिस्टार क कार्यालय बाटे।[२]

एकर वर्तमान नाँव (High Court of Judicature at Allahabad) ११ मार्च सन् १९१९ में भइल। सन् २००० में उत्तरांचल (अब उत्तराखण्ड) बनला पर एकरी अन्दर आवे वाला क्षेत्र इलाहाबाद हाईकोर्ट के न्य्यायाधिकार में आवल बंद हो गइल।

संदर्भ[संपादन]

बाहरी कड़ी[संपादन]