मिंटो पार्क

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
"मदन मोहन मालवीय पार्क" इहाँ अनुप्रेषित बाटे। अन्य अरथ खातिर, देखल जाय मदन मोहन मालवीय पार्क (बहुअर्थी)
ई लेख इलाहाबाद के पार्क के बारे मे बा, कनाडा के पार्क खातिर, मिंटो पार्क, कनाडा देखल जाय। पाकिस्तान में के पार्क जेकर नाँव बदल दिहल गइल खातिर, इकबाल पार्क देखल जाय।
मदन मोहन मालवीय पार्क
मिंटो पार्क
Type पब्लिक पार्क
Location इलाहाबाद
Founder लॉर्ड मिंटो
Open 1910
Status साल भर खुला

मिंटो पार्क (अंग्रेजी: Minto Park) भा सरकारी नाँव मदन मोहन मालवीय पार्क इलाहाबाद में एक ठो पब्लिक पार्क बाटे।[1] शहर के दक्खिनी हिस्सा में यमुना नदी के किनारे मौजूद ई पार्क अपना ऐतिहासिक महत्व खातिर प्रसिद्द बाटे। 1 नवम्बर 1858 के लार्ड कैनिंग अहिजे से रानी विक्टोरिया के मशहूर घोषणापत्र पढले रहलन।[2] एही घोषणापत्र द्वारा आधिकारिक रूप से भारत पर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के अंत भइल आ भारत ब्रिटिश क्राउन के अधीन भइल। ओह समय इहाँ एक ठो बड़हन मैदान रहल जहाँ एह घोषणा खातिर दरबार लगावल गइल। बाद में इहाँ पार्क बनावे के फैसला भइल आ 1910 में लार्ड मिंटो अहिजा एक ठो चीन्हा के रूप में सफ़ेद संगमरमर के खंभा लगववलें[3] आ पार्क खोल दिहल गइल। बाद में एह ऊपरी हिस्सा के बदल दिहल गइल आ अब एह पर चार शेर के निशान वाला भारत के वर्तमान राजचिह्न बा।[2]

संदर्भ[संपादन]

  1. "Minto Park"; Uptourism.gov.in; 2015-10-26; पहुँचतिथी 2016-07-29. 
  2. 2.0 2.1 Sanjeev Sanyal (15 November 2012); Land of seven rivers: History of India's Geography; Penguin Books Limited; pp. 201–202; ISBN 978-81-8475-671-5. 
  3. Himanshu Prabha Ray (7 August 2014); The Return of the Buddha: Ancient Symbols for a New Nation; Routledge; pp. 178–; ISBN 978-1-317-56006-7.