बाढ़ि

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं

बाढ़ि या बाढ़ एगो अइसन घटना होखे ले जवना में पानी अइसन जमीन के ऊपर चढ़ि आवेला जहाँ आमतौर पर जमीन सूखल रहे ले। जब एकरा से मनुष्य के नोकसान होखे ला तब ई आपदा में गिनल जाला। ई प्राकृतिक कारण आ मनुष्य के कौनों काम या फिर दुनों के मिलल जुलल कारण के परिणाम हो सके ला।

आमतौर पर नदी या झील के किनारे के जमीन जवन सूखल रहे ले ओकरा पानी के बढ़ले के कारन बूड़ि गइले के बाढ़ि कहल जाला। पानी के ई चढ़ाव ढेर बरखा भइला या अउरी कौनों दूसर कारन से हो सके ला, जइसे की बाँध ससे अचानक पानी छोड़ल या बाँध के टूट गइले से।

कुछ इलाका में लगभग हर साल बाढ़ि आवेले जेवन सीजनल होखे ले। बरसात के मौसम में नदी नाला ताल सब में पानी चढ़ जाला आ आसपास के सूखल रहे वाली जमीन के डुबा देला।