चैती

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चैती मिथिला क्षेत्र में गावल जाए वाली लोकगीत शैली हवे। उत्तर प्रदेशबिहार में प्रचलित चइत महीना के गीत चइता के मिथिला क्षेत्र में चैती कहल जाला।[1][2]

बाद के समय में एह लोकगीत शैली[3] पर आधारित उपशास्त्रीय गायन के बिधा भी चैती के नाँव से जानल जाले।[4] बनारस के संगीत घराना से चैती आ कजरी के उपशास्त्रीय गायन के रूप में प्रतिष्ठा मानल जाला। गिरिजा देवी प्रसिद्ध चैती गायिका के रूप में जानल जाली।


संदर्भ[संपादन]

  1. "Trdition of singing 'Chaita' folk songs are alive in Bihar - patna news in hindi, Navbharat Times" (Hindi में). Navbharattimes.indiatimes.com. पहुँचतिथी 2017-03-08.
  2. "चैत्र माह में 'चैता गीतों' का है अलग महत्व | News Wing of Hindi Regions of India- Bihar, MP, UP, Chhattisgarh, Jharkhand, Delhi and around in Hindi & English" (Hindi में). Newswing.com. 2012-04-01. पहुँचतिथी 2017-03-08.
  3. Ashok Damodar Ranade (1 जनवरी 2006). Music Contexts: A Concise Dictionary of Hindustani Music. Bibliophile South Asia. पप. 78–. ISBN 978-81-85002-63-7.
  4. Aneesh Pradhan (21 मार्च 2016). Hindustani Music: Ways of Listening. BookBaby. पप. 83–. ISBN 978-1-4835-6483-8.