कर्मनाशा नदी

विकिपीडिया से
कर्मनाशा नदी
लोकेशन
देस भारत
State Uttar Pradesh, Bihar
भौतिक लच्छन सभ
Source  
 - location Sarodag, Kaimur district, Kaimur Range
 - elevation 350 मी (1,150 फीट)
मुहाना Ganges
 - location
Chausa
 - coordinates
25°30′54″N 83°52′30″E / 25.51500°N 83.87500°E / 25.51500; 83.87500निर्देशांक: 25°30′54″N 83°52′30″E / 25.51500°N 83.87500°E / 25.51500; 83.87500
लंबाई 192 किमी (119 मील)
चौड़ाई  
 - एभरेज 385 ft

कर्मनाशा नदी उत्तर प्रदेशबिहार राज्यन के बीच में बहे वाली, गंगा नदी के एगो छोट सहायिका नदी हवे। ई बिहार के कैमूर जिला में से शुरू होखे ले आ ओकरे बाद उत्तर प्रदेश आ बिहार के सीमा बनावे ले। एकरे बायें ओर उत्तर प्रदेश के सोनभद्र, चंदौलीगाजीपुर जिला पड़े लें जबकि दाहिनी ओर कैमूरबक्सर जिला (बिहार के) पड़े लें।[1][2][3][4]

नदी के नाँव एगो पौराणिक कथा के आधार पर पड़ल हवे। कथा के मोताबिक विश्वामित्र ऋषि अपना तपस्या के बल से त्रिशंकु के सदेह स्वरग भेजत रहलें जेकरा के बीचे में रोक दिहल गइल आ ऊ उल्टा लटक गइलें, उनहीं के लार चुए से एह नदी के उत्पत्ती भइल। मानल जाला की एह नदी में नहाए से सगरी अच्छा करम सभ के नाश हो जाला।

भरम निवारण[संपादन करीं]

कर्मनाशा नाँव के एगो नदी उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में बहे ले।[5]

नाँव उत्पत्ती[संपादन करीं]

नदी के नाँव के मतलब होला "कर्म (धार्मिक पुण्य) के नाश करे वाला"। एकरा बारे में कई गो किंवदंती बाड़ी सऽ।[6]

एगो किंवदंती के अनुसार विश्वामित्र ऋषि तपस्या (तपस्या, ध्यान आ सही अभ्यास) के माध्यम से एगो बिल्कुल नया ब्रह्मांड के निर्माण के शक्ति हासिल कइलें। जब ऊ एगो नया ब्रह्मांड बनावे खातिर निकलले त इंद्र में विस्मय पैदा कइलस। हालांकि उ आगे बढ़ले अवुरी हमनी के ब्रह्मांड के प्रतिलिपि बनवला के बाद लोग के सृजन करे लगले, पहिला त्रिशंकू रहले, जेकरा के उ अपना नयका ब्रह्मांड प राज करे खाती ऊपर भेजे के फैसला कइलें। इंद्र एह प्रगति के रोक दिहले। एकरा चलते त्रिशंकू हवा में लटक गइलें आ उनुके सिर नीचे हो गईल। कर्मनास के जनम उनकर मुँह से टपकत लार से भइल मानल जाला।[7]

नदी मारग[संपादन करीं]

कर्मनासा के उत्पत्ती बिहार के कैमूर जिला में सरोदाग के लगे कैमूर रेंज के उत्तरी चेहरा पर 350 मीटर (1,150 फीट) के ऊँचाई पर होला।[1][8] ई मिर्जापुर के मैदान से हो के उत्तर-पच्छिम दिशा में बहे ले, फिर उत्तर प्रदेश आ बिहार के बीच के सीमा बनावे ले आ अंत में बड़ा गाँव (पूरब ओर) गाजीपुर उत्तर प्रदेश आ चौसा (बिहार) के लगे गंडक से मिल जाले। नदी के लंबाई 192 किलोमीटर (119 मील) बाटे, जेह में से 116 किलोमीटर (72 मील) उत्तर प्रदेश में बाटे आ बाकी 76 किलोमीटर (47 मील) उत्तर प्रदेश (बड़ा-गाजीपुर आ बिहार (चौसा) के बीच के सीमा बनावे ले। .कर्मनासा के सहायक नदी सभ के साथ कुल जल निकासी के क्षेत्रफल 11,709 वर्ग किलोमीटर (1.2603×1011 वर्ग फु) बाटे।[8]

सहायिका[संपादन करीं]

एकर सहायक नदी दुर्गावती, चंद्रप्रभा, करुनुति, नाड़ी, गोरिया आ खजुरी बाड़ी सऽ।[8]

झरना[संपादन करीं]

कर्मनासा मैदान में लगातार छलांग लगा के पहुँचे ला जेह में तीन गो झरना सामिल बाड़ें जिनहन के कर्कटगढ़, देवदरी आ छनपथार के नाँव से जानल जाला, जे अपना ऊँचाई आ सुंदरता के हिसाब से बिसेस धियान देवे के लायक बाड़ें।[9] छनपथार झरना 100 फीट (30 मी) ऊँच बा।[10] रोहतास पठार के किनारा पर, कर्मनासा के रास्ता के साथ देवदारी झरना 58 मीटर (190 फीट) ऊँच बा।[11] हालाँकि, चंदौली जिला प्रशासन देवदरी झरना के चंद्रप्रभा नदी पर होखे के जिकिर करे ला।[12]

बान्ह आ पुल[संपादन करीं]

कर्मनासा के पार दू गो बान्ह बाड़ें – लतीफ शाह बंधा आ नुआगढ़ बांध। चंद्रप्रभा के ओह पार एगो बांध बा।[13]

ग्रांड ट्रंक रोड कर्मनासा पर एगो पुल के ऊपर से गुजरे ले।[14]

पुरातत्व[संपादन करीं]

राकेश तिवारी के निर्देशन में यूपी राज्य पुरातत्व विभाग में उत्तर सोनभद्र के कर्मनासा नदी घाटी में राजा नल का तिला स्थल पर उत्खनन में 1200 – 1300 ईसा पूर्व के बीच के लोहा के कलाकृति मिलल बा। ई भारत में लोहा बनावे के इतिहास पर नया रोशनी डाले ला।[15]

इतिहास[संपादन करीं]

कर्मनासा अवध के पूरबी सीमा रहे। संभवतः ई सेन राजवंश के पच्छिमी सीमा भी रहल।[16][17]

कर्मनासा के किनारे भइल चौसा के लड़ाई में 26 जून 1539 के शेर शाह मुगल सम्राट हुमायूँ के हरा दिहलें आ फरीद अल-दीन शेर शाह के शाही उपाधि धारण कइलें।[18][19]

संदर्भ[संपादन करीं]

  1. 1.0 1.1 "RASHTRIYA SAM VIKASH YOJANA - Revised District Plan" (PDF). Rivers. District administration. Archived from the original (PDF) on 10 April 2009. Retrieved 2010-05-05.
  2. "Chandauli". Chandauli district administration. Retrieved 2010-05-05.
  3. Misra, Virendra N.; Bellwood, Peter S. (1985). Recent advances in Indo-Pacific prehistory: proceedings of the international .. By Virendra N. Misra, Peter Bellwood. p. 473. ISBN 9004075127. Retrieved 2010-05-05.
  4. "Ghazipur". Ghazipur district administration. Retrieved 2010-05-05.
  5. "Environmental studies for Vishnugad Pipalkoti Hydro Electric Project" (PDF). Archived from the original (PDF) on 21 July 2011. Retrieved 2010-05-05.
  6. Wikisource-logo.svg चिस्लोम, हॉग, ed. (1911). "Karamnasa" . एन्साइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका. Vol. 15 (11वाँ ed.). कैंब्रिज युनिवर्सिटी प्रेस. p. 676. {{cite encyclopedia}}: Cite has empty unknown parameters: |HIDE_PARAMETER15=, |HIDE_PARAMETER13=, |HIDE_PARAMETER14c=, |HIDE_PARAMETER14=, |HIDE_PARAMETER9=, |HIDE_PARAMETER3=, |HIDE_PARAMETER1=, |HIDE_PARAMETER4=, |HIDE_PARAMETER2=, |HIDE_PARAMETER8=, |HIDE_PARAMETER20=, |HIDE_PARAMETER5=, |HIDE_PARAMETER7=, |HIDE_PARAMETER10=, |separator=, |HIDE_PARAMETER14b=, |HIDE_PARAMETER6=, |HIDE_PARAMETER11=, and |HIDE_PARAMETER12= (help)
  7. "One - Myself". Retrieved 2010-05-05.
  8. 8.0 8.1 8.2 Jain, Sharad K.; Agarwal, Pushpendra K.; Singh, Vijay P. (16 May 2007). Hydrology and Water Resources of India By Sharad K. Jain, Pushpendra K. Agarwal, Vijay P. Singh. pp. 356-357. ISBN 9781402051807. Retrieved 2010-05-05.
  9. Hunter, William Wilson. "The Imperial Gazetter of India (Volume 9), page 54 of 64". Mirzapur 45.5. Electronic Library. Retrieved 2010-06-28.
  10. Kapoor, Subodh (2002). The Indian Encyclopaedia. ISBN 9788177552706. Retrieved 2010-06-28.
  11. K.Bharatdwaj (2006). .Physical Geography: Hydrosphere. p. 154. ISBN 9788183561679. Retrieved 2010-05-14.
  12. "Tourism". Chandauli district administration. Retrieved 2010-06-28.
  13. "Naugarh falls short of water for irrigation". दि टाइम्स ऑफ़ इंडिया. 2010-02-03. Archived from the original on 2011-03-18. Retrieved 2010-05-05.
  14. Sir John Houlton, Bihar, the Heart of India, p. 180, Orient Longmans, 1949
  15. Childress, David Hatcher (2000). Technology of the Gods: The Incredible Sciences of the Ancients By David Hatcher Childress. p. 80. ISBN 9780932813732. Retrieved 2010-05-05.
  16. Syed, M. H. (2004). History of Delhi sultanate. p. 36. ISBN 9788126118304. Retrieved 2010-05-05.
  17. Darpan, Pratiyogita (June 2008). Pratiyogita Darpan June 2008. Retrieved 2010-05-05.
  18. "Battle of Chausa". Retrieved 2010-05-05.
  19. Singh, Nagendra Kr (2003). Encyclopaedia Of Bangladesh (Set Of 30 Vols.) By Nagendra Kr. Singh. p. 117. ISBN 9788126113903. Retrieved 2010-05-05.

बाहरी कड़ी[संपादन करीं]

  • Wikisource-logo.svg "Karamnasa" . New International Encyclopedia. 1905. {{cite encyclopedia}}: Cite has empty unknown parameters: |HIDE_PARAMETER15=, |HIDE_PARAMETER13=, |HIDE_PARAMETER2=, |HIDE_PARAMETER21=, |HIDE_PARAMETER11=, |HIDE_PARAMETER28=, |HIDE_PARAMETER32=, |HIDE_PARAMETER14=, |HIDE_PARAMETER17=, |HIDE_PARAMETER31=, |HIDE_PARAMETER20=, |HIDE_PARAMETER5=, |HIDE_PARAMETER30=, |HIDE_PARAMETER19=, |HIDE_PARAMETER29=, |HIDE_PARAMETER16=, |HIDE_PARAMETER26=, |HIDE_PARAMETER22=, |HIDE_PARAMETER25=, |HIDE_PARAMETER33=, |HIDE_PARAMETER24=, |HIDE_PARAMETER18=, |HIDE_PARAMETER10=, |HIDE_PARAMETER4=, |HIDE_PARAMETER3=, |HIDE_PARAMETER1=, |HIDE_PARAMETER23=, |HIDE_PARAMETER27=, and |HIDE_PARAMETER12= (help)