मेहरारू (रिश्ता)

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
The Merchant's Wife (1918) by Boris Kustodiev

मेहरारू (रिश्ता के अरथ में) भा मेहरी, औरत (रिश्ता के अरथ में), (संस्कृत: पत्नी) बियाह के रिश्ता में सहभागी मरदाना आ औरत में से औरत के कहल जाला। मरद-मेहरारू के रिश्ता में, आमतौर पर मेहरारू के कुछ कर्तब्य आ अधिकार होलें जे संस्कृति आ समाज अनुसार अलग-अलग जगह आ अलग-अलग समय में अलग-अलग किसिम के पावल जालें।

आमतौर पर, पितृसत्ता वाला समाज में, जहाँ परिवार के मुखिया केहू मरदाना होखे आ परिवार के बंस लइका से चले, मेहरारू से अस्थान मरद के तुलना में कम आँकल जाला आ मेहरारू के अधिकार कम होलें।

अउरी सबद सभ[संपादन करीं]

मेहरारू संगे अउरी सभ सबद जे बोलल जाला, ऊ हऽ: इस्तिरी, मउगी (चाहे माउग), बहू (चाहे बह), बो (चाहे बौह), जन्नी, बेकत (ई मरदो ला कहल जाला), जनाना, जोरु। जब कवनो बड़ अदिमी से बतिआवल जाला तऽ सवारी चाहे घर के लोग के परजोग कइल जाला, जइसे "अपने के सवारी अइली हऽ" चाहे "रवां घर के लोग कहवां बाड़ी?"।[1]

संदर्भ[संपादन करीं]

  1. ग्रियर्सन, जार्ज अब्राहम (1975). Bihar Peasant Life: Being a Discursive Catalogue of the Surroundings of the People of that Province (in English). Cosmo Publ.