मंगलयान

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
मंगलयान क एगो चित्रकार द्वारा बनावल चित्र

मंगलयान, (औपचारिक हिंदी नाँव- मंगल कक्षित्र मिशन[1], अंग्रेजी: Mars Orbiter Mission; मार्स ऑर्बिटर मिशन), भारत क पहिला मंगल बदे अभियान बाटे। असल में ई भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन क एगो महत्वाकांक्षी अन्तरिक्ष परियोजना बा। एह परियोजना के भीतर 5 नवम्बर 2013 के 2 बजके 38 मिनट पर मंगल ग्रह के गोठे (परिकरमा) करे वाला एगो बनावटी उपग्रह आंध्र प्रदेश में श्रीहरिकोटा की सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसऍलवी) सी-25 के मदद से सफलता के साथे छोड़ल गइल। ई 24 सितम्बर 2014 के अपनी कक्षा में स्थापित हो गइल आ इसरो आ भारत की बिग्यानी लोगन के एगो बहुत बड़ सफलता मिलल।[2][3][4] एकरे साथै भारतो अब ओह देशन में शामिल हो गयल बा जवन मंगल पर आपन यान भेजले बाड़ें। वइसे अबहीं तक मंगल जाये बदे शुरू कयल गयल दू-तिहाई अभियान सफल ना हो पायल बा।[5] असल में ई एगो प्रौद्योगिकी प्रदर्शन परियोजना बा जेकर मकसद ग्रहन के बीच में आपसी अन्तरिक्ष अभियान खातिर जरूरी डिजाइन, योजना, व्यवस्था आऊर ई कुल के लागू करावे के तरीका क विकास करल बा।[6]

मंगलयान क गोठ (पैमाना पर नइखे)

प्रमुख यंत्र[संपादन]

मंगलयान की साथ पाँच को डाटा एकट्ठा करे वाला उपकरण भेजल गइल बाड़ें जिनहन क कुल वजन 15 किलोग्राम बा।[7] -

  1. मीथेन सेंसर - ई औजार मंगल की वायुमण्डल में मिथेन गैस की उपस्थिति आ एकरी मात्रा के नापे खातिर बनल बा आ ई मीथेन की सोता क पता भी लगाई आ ओकर नक्शा बनाई। मिथेन गैस क मौजूदगी से जीवन की संभावना क अनुमान लगावल जा सकत बाटे।
  2. थर्मल इंफ्रारेड स्पेक्ट्रोमीटर (TIS) - ई औजार मंगल की सतह क तापमानउत्सर्जकता (emissivity) क माप करि ए से मंगल क सतह की रचना आ खनिजकी (mineralogy) क नक्शा बनावे में मदद मिली।
  3. मार्स कलर कैमरा (MCC) - ई लउके वाला प्रकाश की स्पेक्ट्रम में फोटो खींची।
  4. लमेन अल्फा फोटोमीटर (Lyman Alpha Photometer (LAP)) - यह ऊपरी वायुमण्डल में ड्यूटीरियमहाइड्रोजन क नाम-जोख करी।
  5. मंगल इक्सोस्फेरिक न्यूट्रल संरचना विश्लेषक (MENCA) - ई एगो द्रव्यमान क परीक्षा करे वाला औजार बाटे जेवन ए ग्रह की बहिर्मंडल (इक्सोस्फीयर) में अनावेशित कण संरचना क अद्ध्ययन करी।

कलेंडर[संपादन]

  • 3 अगस्त 2012 - इसरो की मंगलयान परियोजना के भारत सरकार पास कई दिहलस। 2011-12 के बजट में पैसा क आवण्टन हो गइल रहे।[8]
  • 5 नवम्बर 2013 - भारतीय समय 2:38 अपराह्न पर श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश) के सतीश धवन अन्तरिक्ष केन्द्र से ध्रुवीय प्रक्षेपण यान पीएसएलवी सी-25 की सहायता से छोड़ल गइल।[2] 3:20 अपराह्न के निर्धारित समय पर पीएसएलवी-सी 25 के चौथे चरण से अलग होने के उपरांत यान पृथ्वी की कक्षा में पहुँच गया और इसके सोलर पैनलों और डिश आकार के एंटीना ने कामयाबी से काम करना शुरू कर दिया था।[9]
  • 5 नवम्बर से 01 दिसम्बर 2013 ले ई पृथ्वी की कक्षा में घूमत रहल।[10]
  • 7 नवम्बर 2013 के- भारतीय समयानुसार एक बजके 17 मिनट पर मंगलयान की कक्षा के ऊँच कइल गइल।[9]
  • 01 दिसम्बर 2013 - मार्स ट्रांसफर ट्रेजेक्‍टरी में परवेश करा दिहल गइल, ए प्रक्रिया के ट्रांस मार्स इंजेक्शन (टीएमआई) ऑपरेशन नाँव रहे।[11]

यह इसकी 20 करोड़ किलोमीटर से ज्यादा लम्बी यात्रा शुरूआत होगी जो नौ महीने से भी ज्यादा का समय लेगी और इसकी सबसे बड़ी चुनौती इसके अन्तिम चरण में यान को बिल्कुल सटीक तौर पर धीमा करने की होगी, ताकि मंगल ग्रह अपने छोटे गुरुत्व बल के जरिये इसे अपने उपग्रह के रूप में स्वीकार करने को तैयार हो जाये।[10][12],[13]

  • 22 सितंबर 2014 : ई यान मंगल ग्रह की गुरुत्वीय क्षेत्र में घुसल। लगभग 300 दिन ले शांत रहल की बाद मंगलयान की मेन इंजन 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर के सेकेण्ड खातिर चला के अंतिम रास्ता सुधार भइल।
  • 24 सितम्बर 2014 : सुबह 7 बज के 17 मिनट पर मोटर (एलएएम) यान के मंगल की कक्षा में प्रवेश करावे वाला थ्रस्टर्स की संघे चालू कइल गइल आ ई यान सफल रूप से मंगल की कक्षा में अस्थापित हो गइल।[3]

संदर्भ[संपादन]

  1. "नासा, मंगल कक्षित्र मिशन के लिए अपनी सहायता पुन:निश्चित करता है।"; इसरो.गोव.इन; 5 अक्टूबर 2013; पहुँचतिथी 9 नवंबर 2013. 
  2. 2.0 2.1 "मंगल के सफर पर निकला भारत"; नवभारतटाइम्स.कॉम; 5 नवंबर 2013; पहुँचतिथी 5 नवंबर 2013. 
  3. 3.0 3.1 "पहली ही कोशिश में मंगल तक पहुंचा भारत"; नवभारत टाईम्स; 24 सितंबर 2014; पहुँचतिथी 24 सितंबर 2014. 
  4. "मार्स ऑर्बिटर मिशन: महत्वपूर्ण घटनाओं का क्रम"; नवभारत टाईम्स; 24 सितंबर 2014; पहुँचतिथी 24 सितंबर 2014. 
  5. "मंगल के सफर पर निकला भारत"; नवभारतटाइम्स.कॉम; 5 नवंबर 2013; पहुँचतिथी 9 नवंबर 2013. 
  6. "All you need to know about Mangalyan - India's first mission to Mars"; Business Standard; 30 अक्टूबर 2013; पहुँचतिथी 4 नवंबर 2013. 
  7. "भारत के मंगल मिशन पर नजरें"; www.samaylive.com; 22 अप्रैल 2013; पहुँचतिथी 4 नवंबर 2013. 
  8. सुरेश उपाध्याय (5 नवंबर 2013); "आज शुरू होगा मंगल पर विजय का अभियान"; नवभारत टाइम्स; पहुँचतिथी 5 नवंबर 2013. 
  9. 9.0 9.1 विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, (7 नवंबर 2013); "मंगलयान की कक्षा को ऊँचा किया गया"; पत्र सूचना कार्यालय, भारत सरकार; पहुँचतिथी 8 नवंबर 2013. 
  10. 10.0 10.1 "अब मंगल की ओर"; नवभारत टाइम्स; 6 नवंबर 2013; पहुँचतिथी 6 नवंबर 2013. 
  11. "पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकला मंगलयान"; नवभारत टाईम्स; 1 दिसंबर 2013; पहुँचतिथी 2 दिसंबर 2013. 
  12. "आज मंगल हो"; नवभारत टाइम्स; 5 नवंबर 2013; पहुँचतिथी 5 नवंबर 2013. 
  13. "मंगल की ओर पहला कदम कामयाब"; नवभारत टाइम्स; 6 नवंबर 2013; पहुँचतिथी 6 नवंबर 2013.