गुरु तेग बहादुर

विकिपीडिया से
गुरु तेग बहादुर
ਗੁਰੂ ਤੇਗ਼ ਬਹਾਦਰ
बिचला-17वीं-सदी के पोर्ट्रेट, चित्रकार: अहसान
Religionसिख धर्म
Known for
Personal
Bornत्याग मल
Not recognized as a date. Years must have 4 digits (use leading zeros for years < 1000).
अमृतसर, लाहौर सूबा, मुगल साम्राज्य
(वर्तमान पंजाब, भारत)
Died24 नवंबर 1675 (1675-11-25) (उमिर रहल 54)
दिल्ली, मुगल साम्राज्य
(वर्तमान भारत)
Cause of deathसिर काट के मृत्युदंड
Spouseमाता गुजरी
Childrenगुरु गोबिंद सिंह
Parentsगुरु हरगोबिंदमाता नानकी
Senior posting
Period in office1665–1675
Predecessorगुरु हरकिशन
Successorगुरु गोबिंद सिंह
Signature
गुरद्वारा सिस गंज साहब के आंतरिक दृश्य

गुरु तेग बहादुर ( पंजाबी : ਗੁਰੂ ਤੇਗ਼ ਬਹਾਦਰ ( गुरमुखी ) ; 1 अप्रैल 1621 – 11 नवंबर 1675) [5] दस गो गुरु लोग में से नौवाँ गुरु रहलें जे सिख धर्म के स्थापना कइलें आ 1665 से ले के 1675 में सिर काट दिहला ले सिख लोग के नेता रहलें। इनके जनम भारत के पंजाब के अमृतसर में 1621 में भइल आ छठवाँ सिख गुरु गुरु हरगोबिंद के छोट बेटा रहलें। सिद्धांतवादी आ निर्भीक योद्धा मानल जाए वाला ऊ एगो आध्यात्मिक विद्वान आ कवि रहलें जिनके 115 गो स्तोत्र सिख धर्म के मुख्य ग्रंथ श्री गुरु ग्रंथ साहब में शामिल बाड़ें।

गुरु तेग बहादुर के छठवाँ मुगल सम्राट औरंगजेब के आदेश पर भारत के दिल्ली में मृत्यदंड दिहल गइल। [6] सिख पवित्र परिसर गुरुद्वारा सिस गंज साहब आ दिल्ली के गुरद्वारा रकाब गंज साहब गुरु तेग बहादुर के मूंडी काटल जाये आ दाह संस्कार के जगहन के चिन्हित करेलें। उनकर शहादत के हर साल 24 नवम्बर के गुरु तेग बहादुर के शहीदी दिवस के रूप में याद कइल जाला।

जीवनी[संपादन करीं]

शुरुआती जिनगी[संपादन करीं]

गुरु तेग बहादुर छठवाँ गुरु गुरु हरगोबिंद के सबसे छोट बेटा रहलें: गुरु हरगोबिंद के एगो बेटी बीबी वीरो आ पाँच गो बेटा बाबा गुरदित, सूरज माल, अनी राय, अटल राय, आ त्यागा माल भइलें। त्यागा माल के जनम अमृतसर में 1 अप्रैल 1621 के सबेरे भइल रहे। इनके तेग बहादुर (तलवार के पराक्रमी) नाँव से जानल जाए लागल, ई नाँव गुरु हरगोबिंद द्वारा मुगल लोग के खिलाफ लड़ाई में आपन शौर्य देखवला के बाद दिहल गइल।

ओह घरी अमृतसर सिख आस्था के केंद्र रहे। सिख गुरु लोग के आसन के रूप में, आ मसंद भा मिशनरी लोग के कनेक्शन के माध्यम से देश के दूर-दूर के इलाका में सिख लोग से जुड़ाव के साथ, एकरा में सिख धरम के राजधानी के विशेषता के बिकास भइल रहे।

गुरु तेग बहादुर के पालन पोषण सिख संस्कृति में भइल रहे आ तीरंदाजी आ घुड़सवारी के प्रशिक्षण मिलल रहे। उहाँ के वेद, उपनिषद, आ पुराण जइसन पुरान क्लासिक भी सिखावल गइल रहल। तेग बहादुर के बियाह 3 फरवरी 1632 के माता गुजरी से भइल।

बकाला में निवास[संपादन करीं]

1640 के दशक में गुरु हरगोबिंद आ उनकर मेहरारू नानकी तेग बहादुर आ माता गुजरी के साथे मिल के अमृतसर जिला के अपना पैतृक गाँव बकाला में आ गइलें। बकाला, जइसन कि गुरबिलास दसवीं पातशाही में वर्णित बा, तब एगो समृद्ध शहर रहे जवना में कई गो सुंदर कुंड, इनार, आ बाओली रहे। गुरु हरगोबिंद के निधन के बाद तेग बहादुर अपना पत्नी आ महतारी के संगे बकला में रहत रहले।

गुरु जी के सफर[संपादन करीं]

मार्च 1664 में गुरु हरकिशन के मतहाई (चेचक) हो गइल। जब उनकर अनुयायी लोग पूछल कि उनकरा बाद के के नेतृत्व करी त उ जवाब देले कि बाबा बकला, मतलब कि उनकर उत्तराधिकारी बकला में मिले वाला बा। मरत गुरु के शब्दन में अस्पष्टता के फायदा उठावत बहुत लोग अपना के नया गुरु बतावत बकला में स्थापित हो गइल। एतना दावेदार देख के सिख लोग अचरज में पड़ गइलें।

एगो कहानी के मोताबिक, 8वें गुरु के बाद गुरु हरकिशन साहब जी स्वर्ग धाम में जाये के बाद, गुरु के रूप में नकली कई लोग अस्थापित भ गइल रहल। एगो धनी व्यापारी बाबा मखान शाह लबाना, एक बेर आपन नाव के सुरक्षित समुंदर पार करे के प्रार्थना कइले रहले आ वादा कइले रहले कि अगर ऊ बच गइलन त सिख गुरु के 500 सोना के सिक्का उपहार में दे दीहें।[7] उ नौवां गुरु के खोज में पहुंचले। उ एक दावेदार से दूसरा दावेदार तक प्रणाम करत अवुरी हर गुरु के दुगो सोना के सिक्का चढ़वले, इ मानत कि सही गुरु के पता चल जाई कि उनुकर मौन वादा रहे कि उ अपना सुरक्षा खाती 500 सिक्का उपहार में दे दिहे। हर "गुरु" से मिलत सोना के दुनु सिक्का स्वीकार क के विदाई देत रहे। [7] तब उनका पता चलल कि तेग बहादुर भी बकला में रहत रहले। लबाना तेग बहादुर के दू गो सोना के सिक्का के सामान्य प्रसाद उपहार में दिहलें। तेग बहादुर उनुका के आपन आशीर्वाद देले अवुरी टिप्पणी कइले कि उनुकर प्रसाद वादा कईल पांच सौ से काफी कम बा। मखान शाह लबाना तुरते फरक बूझ के ऊपर भाग गइलन। ऊ छत से चिल्लाए लगले, "गुरु लधो रे, गुरु लधो रे" मतलब "गुरु मिल गइलें, गुरु मिल गइलें"।

अगस्त 1664 में एगो सिख संगत बकला पहुंचल आ तेग बहादुर के सिख लोग के नौवाँ गुरु नियुक्त कइलस। संगत के नेतृत्व गुरु तेग बहादुर के बड़ भाई दीवान दुर्गा मल, उनुका के गुरुत्व प्रदान कइले।

जईसे कि मुगल सम्राट जहांगीर के गुरु अर्जन के फांसी दिहला के बाद सिख लोग के बीच रिवाज रहे, गुरु तेग बहादुर के घेरले हथियारबंद अंगरक्षक रहल करें। उ खुद तपस्वी जीवन जीयत रहले।

रचना[संपादन करीं]

गुरु तेग बहादुर ग्रंथ साहब में कई गो भजन के योगदान दिहलें जेह में गुरु ग्रंथ साहब के अंत के लगे के हिस्सा के श्लोक, या दोहा भी सामिल रहलें। गुरु तेग बहादुर मुगल साम्राज्य के बिबिध हिस्सा के दौरा कइलें आ गोबिंद सहली द्वारा महाली में कई गो सिख मंदिर बनावे के कहल गइल। इनके रचना सभ में 116 गो शबद, 15 गो राग आ इनके भगत सभ के 782 गो रचना सभ के श्रेय दिहल जाला जे सिख धर्म में बानी के हिस्सा हवें। इनके रचना सभ के गुरु ग्रंथ साहब (पन्ना 219-1427) में सामिल कइल गइल बा। एह में कई गो बिसय सभ के सामिल कइल जाला, जइसे कि भगवान के स्वभाव, मानवीय लगाव, तन, मन, दुख, मर्यादा, सेवा, मौत आ मुक्ति।

सफर[संपादन करीं]

गुरु तेग बहादुर पहिला सिख गुरु नानक के शिक्षा के प्रचार करे खातिर ढाकाअसम समेत देश के अलग-अलग हिस्सा में बहुत घूमले। जवना जगहन पर उहाँ के घूमे आ ठहरल रहले, उहाँ सिख मंदिरन के स्थल बन गइल। अपना यात्रा के दौरान गुरु तेग बहादुर सिख विचार अवुरी संदेश के प्रसार कइले, संगही सामुदायिक पानी के कुआं अवुरी लंगर (गरीब खाती सामुदायिक रसोई के दान) शुरू कइले।

गुरु लगातार तीन बेर कीरतपुर के दौरा कइलेंl 21 अगस्त 1664 के गुरु तेग बहादुर बीबी रूप के पिता गुरु हर राय, सातवाँ सिख गुरु आ उनकर भाई गुरु हरकिशन के निधन पर सांत्वना देवे खातिर ओहिजा गइलें। [8] दूसरा यात्रा 15 अक्टूबर 1664 के भइल, 29 सितंबर 1664 के गुरु हर राय के महतारी बस्सी के निधन के समय। तीसरा यात्रा में उत्तर-पश्चिम भारतीय उपमहाद्वीप के माध्यम से काफी व्यापक यात्रा के समापन भइल| उनकर बेटा गुरु गोविंद सिंह, जे दसवाँ सिख गुरु होखीहें, के जनम पटना में भइल रहे, जब ऊ 1666 में असम के धुबरी में दूर रहले, जहाँ गुरद्वारा श्री गुरु तेग बहादुर साहब अस्थापित बाटे। उहाँ उ बंगाल के राजा राम सिंह अवुरी अहोम राज्य (बाद में असम) के राजा चकरद्वाज के बीच युद्ध के खतम करे में मदद कइलें। उ मथुरा, आगरा, इलाहाबाद अवुरी वाराणसी के दौरा कइलें।

असम, बंगाल आ बिहार के दौरा के बाद गुरु बिलासपुर के रानी चंपा के दौरा कइलें जवन गुरु के अपना राज्य के जमीन के टुकड़ा देवे के प्रस्ताव रखली। गुरु साहब 500 रुपया में जगह के खरीद लिहलेंl। उहाँ गुरु तेग बहादुर हिमालय के तलहटी में आनंदपुर साहब शहर के स्थापना कइलें।[6] 1672 में तेग बहादुर कश्मीर आ उत्तर-पश्चिम सीमा के रास्ता से होके, जनता से मिले खातिर यात्रा कइलें, काहें से कि गैर-मुसलमान लोग के उत्पीड़न नया ऊंचाई पर पहुँच गइल रहल।

मृत्युदंड[संपादन करीं]

गुरु तेग बहदर के सिर के सिख लोग द्वारा आनंदपुर ले आवल जा रहल फ्रेस्को कला

सिख कथन सभ के प्राथमिक बिबरन बचितर नाटक, गुरु तेग बहादुर के बेटा गुरु गोविंद सिंह के संस्मरण बाटे जे 1680 के दशक के अंत से 1690 के दशक के अंत के बीच के हवे।[9] गुरु तेग बहादुर के बेटा आ उत्तराधिकारी गुरु के फाँसी के याद कइलें:

In this dark age, Tegh Bahadur performed a great act of chivalry (saka) for the sake of the frontal mark and sacred thread. He offered all he had for the holy. He gave up his head, but did not utter a sigh. He suffered martyrdom for the sake of religion. He laid down his head, but not his honor. Real men of God do not perform tricks like showmen. Having broken the pitcher on the head of the king of Delhi, he departed to the world of god. No one has ever performed a deed like him. At his departure, the whole world mourned, while the heavens hailed it as victory.

तेग बहादुर के फाँसी के अउरी सिख बिबरन, सभ "भरोसेमंद सिख लोग के गवाही" से मिलल होखे के दावा करे लें, लगभग अठारहवीं सदी के अंत में ही उभरल शुरू भइल आ एह तरीका से, अक्सर परस्पर विरोधी बाड़ें। [10] इतिहासकार सोहन लाल सूरी के कहनाम बा कि गुरु के दक्षिणी पंजाब में 1672 से 1673 के बीच यात्रा के दौरान सैनिक अवुरी घुड़सवार के हजारों अनुयायी मिलल अवुरी मुगल प्रतिनिधि के प्रतिरोधक लोगन के आश्रय दिहल गइल। औरंगजेब के एह तरह के गतिविधि के बारे में चेतावल गइल, चिंता के कारण के रूप में जवना से संभवतः विद्रोह हो सकत रहे।


फारसी सूत्रन के कहनाम बा कि गुरु एगो डाकू रहलें जिनकर पंजाब के लूटपाट आ बलात्कार के साथे-साथे उनकर विद्रोही गतिविधियन के चलते उनकरा के मृत्यदंड के सजा जल्दी हो गइल। इनके मृत्युदंड के इतिहास बतावे वाला सभसे पहिले के फारसी स्रोत गुलाम हुसैन खान लगभग 1782 लिखल सियार-उल-मुत्ताखेरिन बाटे, जहाँ तेग बहादुर के (कथित) प्रजा के अत्याचार के कारण औरंगजेब के क्रोध पैदा भइल मानल जाला:[10]

Tegh Bahadur, the Ninth successor of (Guru) Nanak became a man of authority with a large number of followers. (In fact) Several thousand persons used to accompany him as he moved from place to place. His contemporary Hafiz Adam, a faqir belonging to the group of Shaikh Ahmad Sirhindi's followers, had also come to have a large number of murids and followers. Both these men (Guru Tegh Bahadur and Hafiz Adam) used to move about in Punjab, adopting a habit of coercion and extortion. Tegh Bahadur used to collect money from Hindus and Hafiz Adam from Muslims. The royal waqia navis (news reporter and intelligence agent) wrote to the Emperor Alamgir [Aurangzeb] of their manner of activity, added that if their authority increased they could become even refractory.

— Ghulam Husain, Siyar-ul-Mutakhkherin

हालांकि सतीश चंद्र हुसैन खान के तर्क के फेस वैल्यू से ना लेवे के चेतावनी देत बाड़े। [10] ऊ अलीवर्दी खान के रिश्तेदार रहलें — औरंगजेब के सभसे करीबी विश्वासपात्र लोग में से एक — आ शायद "आधिकारिक औचित्य" देत रहलें। [10] [11] [नोट 1] उपर दिहल कथ्य के अउरी चुनौती भी बाड़ी सऽ। गुलाम हुसैन पंजाब से बहुत दूर रहत रहले। साथे साथ हाफिज आदम से गुरु के संगति कालक्रम में असंगति लिहले बा। तेग बहादुर के गुरु के दर्जा पावे से 21 साल पहिले ई. 1643 में मदीना में हाफिज आदम के निधन हो गइल रहल। आगे इहो बतावल जरूरी बा कि गुलाम हुसैन के मुताबिक तेग बहादुर ग्वालियर में बंद रहले, जहां शाही आदेश के तहत उनुकर लाश के "चार क्वार्टर में काट के" किला के चार गेट प लटका दिहल गइल जबकि इ सभके मालूम बा तेग बहादुर के दिल्ली में फांसी दिहल गइल जहाँ एह घरी सिसगंज गुरुद्वारा बसल बा।[प्रमाण देईं] अठारहवीं सदी के दौरान लिखल गइल सिख साखी सब अप्रत्यक्ष रूप से फारसी स्रोत सभ में कथ्य के समर्थन करे ला; कुछुओ ना कि औरंगजेब के लागू हठधर्मी नीति के जवाब में गुरु "देश के मुस्लिम शासकन के हिंसक विरोध" में रहले। फारसी अउरी सिख दुनों सूत्र एह बात से सहमत बाड़े कि तेग बहादुर सैन्य रूप से मुगल राज्य के विरोध कइले रहले अउरी एह से औरंगजेब के राज्य के दुश्मन के सजा देवे के जोश के मुताबिक मृत्युदंड के निशाना बनावल गइल रहे।

कई गो विद्वान लोग एह कथ्य के पहचान निम्नलिखित बा: कश्मीर से हिन्दू पंडित लोग के एगो मंडली औरंगजेब के दमनकारी नीतियन के खिलाफ मदद के निहोरा कइलस, जवना पर गुरु तेग बहादुर ओह लोग के अधिकार के रक्षा करे के फैसला कइलें। मुगल अधिकारियन का तरफ से कश्मीरी ब्राह्मणन पर होखे वाला अत्याचार के सामना करे खातिर तेग बहादुर मखौवाल के निवास से निकल गइलन बाकिर रोपड़ में गिरफ्तार कर के सिरहिंद में जेल में डाल दिहल गइलें चार महीना बाद नवंबर 1675 में उनकरा के दिल्ली ट्रांसफर कइल गइल आ भगवान के नजदीकी साबित करे भा इस्लाम अपनावे खातिर चमत्कार करे के कहल गइल।[12] गुरु साहब मना कर दिहलन आ उनका साथे धराइल उनकर तीन साथी लोग के उनही के सामने यातना दिहल गइल: भाई माटी दास के टुकड़ा-टुकड़ा में आरी से काटल गइल, भाई दयाल दास के उबलत पानी के कड़ाही में फेंक दिहल गइल, आ भाई सती दास के जिंदा जरा दिहल गइल।[12] ओकरा बाद लाल किला के नजदीक बाजार चौक चांदनी चौक में तेग बहादुर के सरेआम सिर काट दिहल गइल।[12]

सतीश चंद्र एह बिषद-कथावन के प्रामाणिकता पर संदेह जतवले बाड़न, जवन चमत्कार पर केंद्रित बा — औरंगजेब एहसभ में बिस्वास करे वाला ना रहलें। आगे ऊ सिख विवरण के भीतर कश्मीर में हिन्दू लोग के उत्पीड़न के कथ्य से संबंधित संदेह जतवले बाड़न, एह बात के टिप्पणी करत कि कवनो समकालीन स्रोत में ओहिजा के हिन्दू लोग के उत्पीड़न के जिक्र नइखे भइल।[10] लुईस फेनेच प्राथमिक स्रोत सभ के कमी के आलोक में, कौनों फैसला पास करे से इनकार करे लें; हालाँकि, ऊ नोट करे लें कि एह सिख बिबरन सभ में घटना सभ में शहादत के लिखित कइल गइल रहे, एकर मकसद पाठकन में आघात से बेसी गर्व पैदा कइल रहे। आगे उनकर तर्क बा कि तेग बहादुर अपना आस्था खातिर खुद के बलिदान देले रहले; बचितर नाटक में अपना के जिक्र करत अंश में जंजू आ तिलक। [9]

उल्लेखनीय बा कि सिख साहित्य में एह दबंग विषय के विपरीत आधुनिकता से पहिले के कुछ सिख विवरणन में एकर दोष एगो कटु उत्तराधिकार विवाद पर डालल गइल रहे: गुरु हरकिशन के बड़ भाई राम राय के ई सुझाव दे के औरंगजेब के तेग बहादुर के खिलाफ भड़कावे के मानल गइल ऊ दरबार में चमत्कार करके आपन आध्यात्मिक महानता साबित करेला। [10] [नोट 2] रंजीत सिंह के दरबारी इतिहासकार सोहन लाल सूरी अपना मजिस्ट्रेटी उमदत उत तवारीख (लगभग 1805) में हुसैन खान के तर्क के बिस्तार से दोहरावे के विकल्प चुनलें: तेग बहादुर सभ वर्ग के बिद्रोही लोग के शरण दे चुकल रहलें आ पंजाब भर में एगो बिसाल खानाबदोश सेना के कमान संभालले रहलें; एह से ओकरा के जल्दी से जल्दी नीचे गिरा दिहल गइल, कहीं ऊ निकट भविष्य में विद्रोह के घोषणा ना कर देव। [10]

विरासत आ स्मारक[संपादन करीं]

गुरद्वारा रकाब गंज साहब, दिल्ली

गुरु हर गोविंद गुरु तेग बहादुर के बाबूजी रहले। इनके मूल नाँव त्याग मल ( पंजाबी: ਤਿਆਗ ਮਲ ) बाकिर बाद में मुगल सेना के खिलाफ लड़ाई में उनकर बहादुरी आ बहादुरी के बाद एकर नाँव तेग बहादुर रखल गइल। उहाँ के आनंदपुर साहब शहर के निर्माण कइले आ कश्मीरी पंडित लोग के एगो गुट के बचावे के जिम्मेदारी उनकरा पर रहे, जेकरा के मुगल लोग प्रताड़ित करत रहे।

मुगल सम्राट औरंगजेब द्वारा तेग बहादुर के मृत्युदंड के बाद उनके आ उनके साथी लोग के याद में कई गो सिख मंदिर बनावल गइल। दिल्ली के चांदनी चौक में गुरद्वारा सिस गंज साहब जहवाँ सिर काटल गइल रहे, ओहिजा बनल। [13] गुरद्वारा रकाब गंज साहब, जवन भी दिल्ली में बा, तेग बहादुर के एगो शिष्य के आवास के जगह प बनल बा, जवन कि अपना मालिक के लाश के दाह संस्कार करे खाती आपन घर जरा देले रहले।

पंजाब के गुरद्वारा सिसगंज साहब ओह जगह के चिन्हित करेला जहाँ नवंबर 1675 में औरंगजेब के मुगल अधिकार के अवहेलना करत भाई जैता ( सिख संस्कार के अनुसार भाई जीवन सिंह नाम बदलल ) द्वारा ले आवल गइल शहीद गुरु तेग बहादर के सिर के इहाँ अंतिम संस्कार कइल गइल रहे। [14] आनंदपुर साहब के यात्रा के दौरान भाई जैता सिंह सोनीपत में दिल्ली के नजदीक एगो गांव पहुंचेले अवुरी मुगल सेना भी ओ गांव पहुंच जाले। [15] भाई जइता गाँव के लोग से मदद के मांग करते से गाँव के लोग गुरु' सिर से भाई जैता के लुकवा दिहल। [16] कुशल सिंह दहिया नाम के एगो गाँव के आदमी आगे आके गुरु के सिर के जगह आपन सिर मुगल सेना के सौंप देवे के आग्रह कइलें। [17] कुशल सिंह दहिया के सिर काटला के बाद गाँव के लोग सिर फेरबदल क के कुशल सिंह दहिया के सिर मुगल सेना के दे देले। [18]

तेग बहादुर के याद कइल जाला कि ऊ धर्म के आजादी खातिर आपन जान छोड़ दिहलन, भारत के सिख आ गैर मुसलमानन के याद दिआवत बाड़न कि ऊ लोग अपना मान्यता के पालन करे आ ओकरा के पालन करे। गुरु तेग बहादुर शहीद हो गइलन, साथी भक्त भाई माटी दास, भाई सती दास आ भाई दयाला के साथे शहीद हो गइलन। [6] 24 नवंबर, इनके शहादत के तारीख भारत के कुछ हिस्सा में सार्वजनिक छुट्टी के रूप में मनावल जाला। [19] [20] [21]

फांसी के सजा मुस्लिम शासन अवुरी उत्पीड़न के खिलाफ सिख लोग के संकल्प कड़ा हो गइल। पशौरा सिंह के कहनाम बा कि, "अगर गुरु अर्जन के शहादत से सिख पंथ के एक संगे ले आवे में मदद मिलल रहित त गुरु तेग बहादुर के शहादत से मानव अधिकार के रक्षा के एकर सिख पहचान के केंद्रीय बनावे में मदद मिलल"। विल्फ्रेड स्मिथ [22] के कहनाम रहल कि "नौवाँ गुरु के जबरन बाहरी, अवैयक्तिक इस्लाम में बदले के कोसिस से शहीद के नौ बरिस के बेटा गोबिंद पर साफ-साफ अमिट छाप पड़ल जे अंत में सिख समूह के संगठित क के धीरे-धीरे बाकी जानबूझ के प्रतिक्रिया दिहलें।" एगो अलग, औपचारिक, प्रतीक पैटर्न वाला समुदाय"। एहमें खालसा पहचान के सुरुआत भइल।

नोट[संपादन करीं]

  1. Chandra points out a factual error to justify his caution: Adam had died much earlier.
  2. Ghulam Muhiuddin Bute Shah in his Tarikh- i-Punjab reiterates this narrative.

संदर्भ[संपादन करीं]

  1. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; no text was provided for refs named pslf
  2. Gill, Sarjit S., and Charanjit Kaur (2008), "Gurdwara and its politics: Current debate on Sikh identity in Malaysia", SARI: Journal Alam dan Tamadun Melayu, Vol. 26 (2008), pages 243–255, Quote: "Guru Tegh Bahadur died in order to protect the freedom of India from invading Mughals."
  3. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; no text was provided for refs named cs2013
  4. Gandhi, Surjit (2007). History of Sikh gurus retold. Atlantic Publishers. pp. 653–91. ISBN 978-81-269-0858-5.
  5. "The Ninth Master Guru Tegh Bahadur (1621–1675)". sikhs.org. Archived from the original on 7 January 2019. Retrieved 23 November 2014.
  6. 6.0 6.1 6.2 "Religions – Sikhism: Guru Tegh Bahadur". BBC. Archived from the original on 14 April 2017. Retrieved 20 October 2016. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "bbcgtb" defined multiple times with different content उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "bbcgtb" defined multiple times with different content
  7. 7.0 7.1 उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; no text was provided for refs named mk1992
  8. "Sikhism - Guru Har Rai | Britannica". www.britannica.com (अंग्रेजी में). Retrieved 2021-11-26.
  9. 9.0 9.1 Fenech, Louis E. (1997). "Martyrdom and the Sikh Tradition". Journal of the American Oriental Society. 117 (4): 623–642. doi:10.2307/606445. ISSN 0003-0279. JSTOR 606445. Archived from the original on 6 October 2018. Retrieved 2 December 2017. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name ":0" defined multiple times with different content
  10. 10.0 10.1 10.2 10.3 10.4 10.5 10.6 Chandra, Satish. "Guru Tegh Bahadur's martyrdom". The Hindu. Archived from the original on 28 February 2002. Retrieved 20 October 2016. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "sc2001" defined multiple times with different content उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "sc2001" defined multiple times with different content उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "sc2001" defined multiple times with different content उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; name "sc2001" defined multiple times with different content
  11. "Siyar-ul-Mutakhkherin – Banglapedia". en.banglapedia.org. Archived from the original on 18 September 2021. Retrieved 2021-09-18.
  12. 12.0 12.1 12.2 उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; no text was provided for refs named Grewal1998p71
  13. SK Chatterji (1975), Sri Guru Tegh Bahadur and the Sis Ganj Gurdwara, Sikh Review, 23(264): 100–09
  14. Harbans Singh (1992), "History of Gurdwara Sis Ganj Sahib", in Encyclopedia of Sikhism, Volume 1, pg. 547
  15. "Archived copy". Archived from the original on 24 February 2021. Retrieved 5 January 2020.{{cite web}}: CS1 maint: archived copy as title (link)
  16. "Pratilipi | Read Stories, Poems and Books". hindi.pratilipi.com (हिंदी में). Archived from the original on 26 September 2021. Retrieved 2020-01-05.
  17. "कुशाल सिंह दहिया की प्रतिमा का सीएम ने किया अनावरण". khas khabar (हिंदी में). 2017-11-09. Archived from the original on 27 November 2018. Retrieved 2020-01-05.
  18. Pioneer, The. "CM unveils statue of Kushal Singh Dahiya". The Pioneer (अंग्रेजी में). Archived from the original on 21 December 2019. Retrieved 2020-01-05.
  19. "Letter from Administration of Dadra and Nagar Haveli, U.T." (PDF). Dnh.nic.in. Archived from the original (PDF) on 6 August 2016. Retrieved 20 October 2016.
  20. "LIST OF RESTRICTED HOLIDAYS 2016". Arunachalipr.gov.in. Archived from the original on 8 November 2016. Retrieved 20 October 2016.
  21. "HP Government – Holidays – Government of Himachal Pradesh, India". Himachal.nic.in. 13 June 2016. Archived from the original on 1 November 2016. Retrieved 20 October 2016.
  22. उद्धरण खराबी:Invalid <ref> tag; no text was provided for refs named ws1981

बाहरी कड़ी[संपादन करीं]

गुरु तेग बहादुर पर पियर-रिव्यू प्रकाशन
पहिले
Guru Har Krishan
Sikh Guru
20 March 1665 – 24 November 1675
बाद में
Guru Gobind Singh