Jump to content

श्लोक

विकिपीडिया से

श्लोक (भोजपुरी उच्चारण बहुधा: अस्लोक) संस्कृत में रचल कौनहूँ कबिता के कह दिहल जाला। हालाँकि, बिसेस रूप से चिन्हित करे पर ई अनुष्टुप छंद के नाँव हवे जेह में आठ-आठ मात्रा के चार गो चरण होखे लें। ई वैदिक अनुष्टुभ् छंद से निकलल हवे हालाँकि ओकरा ले कुछ भिन्न हवे। ई बहुत पॉपुलर छंद हवे आ संस्कृत साहित्य के सभसे बेसी चलन के छंद मानल जा सके ला। एकर एगो अउरी दूसर नाँव पद्य हवे, हालाँकि, इहो आमतौर प कौनहूँ कबिता नियर रचना के कह दिहल जाला।

कई गो बहुत महत्व वाला ग्रंथ सभ के रचना एह छंद में भइल बा आ बहुत सारा कबी लोग अपना रचना सभ में बीच-बीच में एकर इस्तमाल कइले बाटे। महाभारत के हिस्सा मानल जाए वाली आ हिंदू धर्म में बहुत महत्व के पुस्तक मानल जाए वाली श्रीमद्भगवद्गीता एही छंद में रचल गइल हवे। सत्यनारायण के कथा एही श्लोके छंद में लिखल गइल हवे।

उदाहरण[संपादन करीं]

धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सवः।
ममाकाः पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत सञ्जय॥

— गीता, अध्याय 1, श्लोक 1

संदर्भ[संपादन करीं]