वैदिक काल

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुरुआती वैदिक काल
Early Vedic Culture (1700-1100 BCE).png
भूगोलीय बिस्तार भारतीय उपमहादीप
कालखंड भारत में लोहा जुग
तिथी ल॰ 1500 – c. 1100 BCE (uncertain)
एकरा पहिले सिंधु घाटी सभ्यता
एकरे बाद बाद के वैदिक काल, कुरु राज, पांचाल
बाद के वैदिक काल
Late Vedic Culture (1100-500 BCE).png
भूगोलीय बिस्तार भारतीय उपमहादीप
कालखंड लोहा जुग
तिथी ल॰ 1100 – c. 500 ईसा पूर्ब (अनिश्चित)
एकरा पहिले सुरुआती वैदिक काल
एकरे बाद बृहद्रथ बंस, हर्यंक बंस, महाजनपद

वैदिक काल (1500 ईसा पूर्ब – 500 ईसा पूर्ब) भारतभारतीय उपमहादीप की इतिहास के ऊ काल हवे जेवना समय वेद के रचना भइल मानल जाला। एकरे पहिले के काल सिंधु घाटी सभ्यता के हवे आ एकरे बाद गंगा मैदान में दुसरा शहरी बिस्तार के काल हवे। एह काल के नाँव वेद ग्रंथ सभ के नाँव पर रखल गइल हवे जे एह दौर के बारे में उपलब्ध परमान बाने। वेद सभ के रचना एह काल में भइल आ ई जबानी इयाद कऽ के पीढ़ी-दर-पीढ़ी आगे पास भइलें। एही से इनहन के श्रुति ग्रंथ कहल जाला।

वैदिक सभ्यता के संबंध आर्य लोग से बतावल जाला। हालाँकि, आर्य शब्द कौनों प्रजाति (रेस) के खाती ना इस्तेमाल भइल हवे बलुक ई भाषा के वर्गीकरण हवे। अलग-अलग बिद्वान लोग आर्यभाषा बोले वाला, मने कि आर्य लोग, के मूल अस्थान भारत से बहरें माने ला हालाँकि, ई बहरहूँ कहाँ रहल एह बारे में कौनों एकमत ना बा। मानल जाला कि भारत (भारतीय उपमहादीप) में आर्य लोग के आगमन भा आक्रमण करीबन 1500 ईसा पूर्ब के समय में भइल रहे। एही जा से वैदिक काल के सुरुआत मानल जाला। एकरे बाद एह काल के दू हिस्सा में बाँटल जाला।

कुछ लोग सुरुआती आ बाद के वैदिक काल में ई बिभाजन करे ला आ इनहन के बीचा के सीमा 1200 ईसापूर्ब बतावे ला। कुछ लोग ई बात कहे ला कि ऋग्वेद, जे चारों वेद सभ में सभसे पुरान ग्रंथ हवे, एह में लोहा के कवनो जिकिर ना मिले ला। एह आधार पर लोहा वाल जुग से पहिले के कालखंड के ऋग्वेदिक काल के नाँव दिहल जाला आ एकर समय 1500 से 1000 ईसा पूर्ब माने ला काहें से कि भारत में लोहा के इस्तेमाल के पहिला सबूत, वर्तमान में एटा जिला के अतरंजीखेड़ा नाँव के जगह से, 1000 ईपू के आसपास के समय के मिले ला। 600 से 500 ईसा पूर्ब के समय में भारत में दूसरी नगरीय क्रांति भइल आ एही समय ले वैदिक काल के सभसे बाद वाली सीमा निर्धारित कइल जाला, जबकि वैदिक काल के गाँव वाली सभ्यता बतावल जाला। शहर (महाजनपद काल) के उदय आ श्रमण आंदोलन में तेजी जे वेद के महत्त्व के चुनौती दिहल एह काल के अंतिम अवस्था मानल जाला।

इहो देखल जाय[संपादन]

संदर्भ[संपादन]