राहुल सांकृत्यायन

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
राहुल सांकृत्यायन
जनम केदारनाथ पाण्डेय
9 अप्रैल 1893
पंदहा गाँव,[1] आजमगढ़ जिला, उत्तर प्रदेश, ब्रिटिश भारत
निधन 14 अप्रैल 1963(1963-04-14) (उमिर 70)
दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल, भारत
अन्य नाँव राहुल बाबा
पेशा लेखक, निबंधकार, बिद्वान, भारतीय राष्ट्रवादी, इतिहासकार, भारतबिद, दर्शनशास्त्री, बहुबिद्यावान
राष्ट्रीयता भारतीय
प्रमुख पुरस्कार 1958: साहित्य अकादमी पुरस्कार
1963: पद्म भूषण

राहुल सांकृत्यायन, जेके महापंडित क उपाधि दिहल जाले[2], हिंदी के एगो प्रमुख साहित्यकार अउर प्रतिष्ठित बहुभाषाविद् रहने[2]। उ हिंदी यात्रासहित्य क पितामह कहल जालें[2]बौद्ध धर्म पर उनकर शोध हिंदी साहित्य में युगान्तरकारी मानल जाला, जेकरे खातिन उ तिब्बत से श्रीलंका तक भ्रमण करले रहने। एकरे अलावा उ मध्य-एशिया तथा कॉकेशस भ्रमण पे यात्रा वृतांत लिखने जेके साहित्यिक दृष्टि से बहुते महत्वपूर्ण मानल जाला।

राहुल जी की तिब्बत यात्रा की वर्णन के महत्व आ ओकर जिनगी की हर पहलू पर बिस्तार से परभावित हो के कुछ लोग 1933-52 की समय के यात्रा साहित्य में राहुल युग ले कहि दिहल।[3]

जीवन[संपादन]

राहुल सांकृत्यायन के जनम आजमगढ़ जिला के पंदहा गाँव में भइल रहल जवन उनुके ननिअउरा रहल।[1]

प्रमुख साहित्यिक कृति[संपादन]

कथा[संपादन]

उपन्यास[संपादन]

  • बाईसवीं सदी
  • जीने के लिए
  • सिंह सेनापति
  • जय यौधेय
  • भागो नहीं, दुनिया को बदलो
  • मधुर स्वप्न
  • राजस्थानी रनिवास
  • विस्मृत यात्री
  • दिवोदास

आत्मकथा[संपादन]

  • मेरी जीवन यात्रा

जीवनी[संपादन]

  • सरदार पृथ्वीसिंह
  • नए भारत के नए नेता
  • बचपन की स्मृतियाँ
  • अतीत से वर्तमान
  • स्तालिन
  • लेनिन
  • कार्ल मार्क्स
  • माओ-त्से-तुंग
  • घुमक्कड़ स्वामी
  • मेरे असहयोग के साथी
  • जिनका मैं कृतज्ञ
  • वीर चन्द्रसिंह गढ़वाली
  • सिंहल घुमक्कड़ जयवर्धन
  • कप्तान लाल
  • सिंहल के वीर पुरुष
  • महामानव बुद्ध

यात्रा साहित्य[संपादन]

राहुल जी क सभसे महत्व वाला साहित्य हवे उनकर यात्रा साहित्य[4]:

  • लंका
  • जापान
  • इरान
  • किन्नर देश की ओर
  • चीन में क्या देखा
  • मेरी लद्दाख यात्रा
  • मेरी तिब्बत यात्रा
  • तिब्बत में सवा बर्ष[5]
  • रूस में पच्चीस मास

अनुवाद[संपादन]

  • मज्झिम निकाय - हिंदी अनुवाद
  • दिघ निकाय - हिंदी अनुवाद
  • संयुत्त निकाय - हिंदी अनुवाद

निबंध[संपादन]

  • ऋग्वैदिक आर्य
  • दर्शन दिग्दर्शन
  • तुम्हारी क्षय - भारतीय जाती व्यवस्था, चल चलन पर व्यंग
  • मध्य एसिया का इतिहास
  • दक्खिनी हिंदी का व्याकरण

इहो देखल जाय[संपादन]

संदर्भ[संपादन]

  1. 1.0 1.1 Prabhakar Machwe (1 जनवरी 1998); Rahul Sankrityayan (Hindi Writer); Sahitya Akademi; pp. 12–; ISBN 978-81-7201-845-0. 
  2. 2.0 2.1 2.2 Sharma, R.S. (2009); Rethinking India's Past; Oxford University Press; ISBN 978-0-19-569787-2. 
  3. विश्वमोहन तिवारी, हिंदी का यात्रा साहित्य, पन्ना 58
  4. मीरा गौतम, अन्तिम दो दशकों क हिंदी साहित्य, पन्ना 242
  5. विष्णुचंद्र शर्मा, तिब्बत में सवा वर्ष, पन्ना xii