रसमलाई

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रसमलाई
Ras Malai 2.JPG
पलेट में परोसल रसमलाई
अन्य नाँव रसोमलाई
समय मीठा
उत्पत्ति के अस्थान बंगाल
क्षेत्र या राज्य भारतीय उपमहादीप
मुख्य सामान छेना, मलाई आ चीनी
भेद-बिभेद कोमिल्ला (बांग्लादेस) क रसोमलाई
एही नियर दूसर पकवान रसगुल्ला, राजभोग, गुलाबजामुन, रबड़ी

रसमलाई एगो भारतीय मिठाई हवे जेह में छेना के चापट टिकरी गाढ़ मलाई नियर दूध के रस में बूड़ल रहे लीं।[1] छेना के टिकरी एकदम मोलायम होला आ एह में बीच में जरको कड़ेर हिस्सा ना होला।[2] जवना रस में ई बूड़ल रहे ला ऊ आमतौर पर पियाराहूँ उज्जर रंग के होला आ एह मिठाई के सजावट खाती एकरे ऊपर पिस्ता के कतरन छिड़कल जाला।

एह मिठाई के मूल उतपत्ती के जगह भारते हवे। के॰ सी॰ दास ग्रैंडसंस, जे बंगाल में कलकत्ता के परसिद्ध रसगुल्ला के दुकान बा, के दावा बाटे कि एह मिठाई के खोज के॰ सी॰ दास कइले रहलें, हालाँकि एह दावा के पुष्टि करे के कौनों तरीका ना बाटे।[3]

एगो हवाला के अनुसार ई मिठाई अवध क्षेत्र में मैदा के छान के ओकरे बाद दूध में गाढ़ मलाई नियर होखे तक पका के तइयार कइल जाए वाली खरिका नाँव के मिठाई के रूपांतरण हवे।[4]

कुल मिला के, पूरबी भारत के मिठाई मानल जाए वाली रसमलाई वर्तमान में पूरा भारत में, नेपाल, पाकिस्तान आ बांग्लादेस में परसिद्ध मिठाई हवे। ईद आ दिवाली के मोका पर, भारतीय उपमहादीप के लोग जहाँ बसल बा, कई जगह बिदेसन में भी ई मिले ला।[5][6]

भारतीय डेयरी जर्नल में छपल एगो रपट के मोताबिक (साल 2004 के आँकड़ा) दूध से बने वाली छेना आधारित मिठाई सभ में, सभसे ढेर दूध के खपत रसमलाई बनावे खातिर होखत रहल।[7]

सामग्री[संपादन]

भरुका में रखल रसमलाई
माटी के भरुका में बिकात रसमलाई

रसमलाई के सामग्री में तिन गो मुख्य आइटम इस्तमाल होला: छेना, दूध के गाढ़ क के बनावल मलाई आ मीठ करे खाती चीनी। एकरे अलावा मलाई में खास रंग आ सुगंध-सवाद (फ्लेवर) पैदा करे खाती केसर के इस्तेमाल कइल जाला। केसर आ पिस्ता के इस्तेमाल एकरे सजावट (गार्निशिंग) में भी होला।

रसमलाई के कुछ रेसिपी सभ में ई ब्रेड[8] से भी बनावल जाले आ एगो खबर के मोताबिक अंडा के रसमलाई[9] भी बनावल जा रहल बा। पाकिस्तानी रूप, गोल्डन रसमलाई के बनावे में पनीर, सुज्जी आ मैदा के इस्तेमाल होला।[10]

बनावे के बिधी[संपादन]

रसमलाई बनावे खातिर सभसे पहिले एकर टिकरी बनावे के होला। छेना के या फिर जइसन वेराइटी बनावल जा रहल होखे ओकरे अनुसार छेना/पनीर आ मैदा सुज्जी इत्यादि के मिक्सचर के मिला के सान लिहल जाला जा गोली पार के चापट टिकरी बना लिहल जाला। एकरे बाद दूध के पका के गाढ़ कइल जाला आ चीनी मिला के मीठ रस बना लिहल जाला। मलाईदार रस तइयार हो जाए पर टिकरी सभ के एह में बोर के पकावल जाला जेवना से ई अउरी गाढ़ हो जाला आ टिकरी बढ़ियाँ से रस के सोख उठे ले। अंत में केसर, चिरौंजी, बदाम आ पिस्ता के कतरन से एकरा के सजा के परोसल जाला।

गैलरी[संपादन]

इहो देखल जाय[संपादन]

संदर्भ[संपादन]

  1. Nirmal Sinha, Ph.D. (27 April 2007). Handbook of Food Products Manufacturing, 2 Volume Set. John Wiley and Sons. पप. 643–. ISBN 978-0-470-04964-8.
  2. Catherine Soanes, Angus Stevenson (2003). Oxford Dictionary of English (2nd संपा.). Oxford University Press. प. 1459. ISBN 0198613474.
  3. Michael Krondl (2011). Sweet Invention: A History of Dessert. Chicago Review Press. पप. 71–72. ISBN 978-1-55652-954-2.
  4. सूर्यप्रसाद दीक्षित (2016). Awadh Sanskriti Vishwakosh-1. Vani Prakashan. पप. 168–. ISBN 978-93-5229-573-9.
  5. "Indian Sweets: Calories In Popular Diwali Desserts (And How To Work Them Off)". HuffPost Canada (English में). 13 नवंबर 2012. पहुँचतिथी 20 मई 2018.
  6. "Rasmalai". Express.co.uk (English में). 21 सितंबर 2010. पहुँचतिथी 20 मई 2018.
  7. Indian Journal of Dairy Science. Indian Dairy Science Association. 2004.
  8. "Recipes In Hindi | Quick and Easy Step by Step Guide to Cook Indian Food". हिंदी रेसिपी.
  9. Standard, Business. "चिकन चिप्स, अंडा रसमलाई; बरेली के सीएआरआई के वैज्ञानिकों ने तैयार किए ये उत्पाद".
  10. "गोल्डन रसमलाई रेसिपी: Golden Rasmalai Recipe in Hindi | Golden Rasmalai Banane Ki Vidhi". NDTV Food. पहुँचतिथी 20 मई 2018.

बाहरी कड़ी[संपादन]