सआदत हसन मंटो

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
सआदत हसन मंटो
जनम 11 मई 1912
Samrala, Ludhiana district, Punjab, British India
निधन 18 जनवरी 1955(1955-01-18) (उमिर 42)
Lahore, Punjab, Pakistan
पेशा कहानीकार, पटकथा लेखक
सक्रियता साल 1934–1955
सम्मान/पुरस्कार निशान-ए-इम्तियाज़

सआदत हसन मंटो उर्दू क एगो बहुत मशहूर लेखक रहलें। मुख्य रूप से उनकर प्रसिद्धि कहानी लेखक की तरे बा लेकिन कहानी की आलावा ऊ फिल्म के स्क्रिप्ट, रेडियोनामा आ नाटक भी लिखलें।

मंटो क जनम अंग्रेजन की समय की भारत में 11 मई सन 1912 ई. में समराला, पंजाब में भइल। मंटो के शुरूआती पढ़ाई अमृतसर में आ फ़िर इन्वार्सिटी के पढ़ाई अलीगढ़ में भइल। बंबई (अब मुंबई) में रहि के काफ़ी लेखन कइलें आ सन 1948 ई. में ऊ पाकिस्तान चलि गइलें।

अंगरेजी हुकूमत आ पाकिस्तान सरकार दुनो उनपर तीन तीन बेर अश्लीलता के आरोप में मुकदमा चलावल लेकिन एक्को बेर आरोप साबित ना भइल। तमाशा उहाँ के पहिली कहानी रहे आ ए पर अंगरेजी हुकूमत प्रतिबन्ध लगा दिहलस। उनकी प्रसिद्द रचना में टोबा टेक सिंह, बू, ठंडा गोश्त, खोल दो, आ धुआँ जइसन कहानी बाड़ी कुल।

खाली बयालिस बरिस की उमिर में उनकर देहांत लाहौर में 18 जनवरी, 1955 के हो गइल

जीवन[संपादन]

रचना[संपादन]