विकिपीडिया:उल्लेखनीयता

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विकिपीडिया पर, उल्लेखनीयता (नोटेबिलिटी) एगो अइसन टेस्ट हवे जेकरे द्वारा संपादक लोग ई निर्णय करे ला कि दिहल गइल बिसय पर अलगा से लेख के जरूरत बा कि ना।

विकिपीडिया पर दिहल जाए वाली जानकारी सत्यापन जोग होखे के चाहीं; अगर बिसय पर तिसरहा-पक्ष के बिस्वसनीय स्रोत नइखे मिलत; तब ओह बिसय पर अलगा से लेख ना होखे के चाहीं। विकिपीडिया पर उल्लेखनीयता के बिचार एगो बेसिक मानक तय करे ला जवना से कि बिसयन के अंधाधुंध शामिल करे से बचाव हो सके। लेख आ लिस्ट सभ के बिसय निश्चित रूप से उल्लेखनीय, यानी "उल्लेख जोग" होखे के चाहीं। उल्लेखनीयता के निर्धारण जरूरी तौर पर परसिद्धि, महत्त्व या पापुलरिटी पर आधारित ना होला—हालाँकि, इनहन के कारण नीचे दिहल गइल दिसानिर्देस सभ के ऊपर खरा उतरे वाला बिसय के स्वीकार्यता में कुछ बढ़ती जरूर हो सके ला।

कौनों बिसय के एह लायक मानल जा सके ला कि ओह पर लेख होखे, अगर:

  1. बिसय नीचे दिहल जनरल दिसानिर्देस सभ पर खरा उतरे, आ
  2. अइसन बिसय के विकिपीडिया का ना हवे के नीति के तहत बाहर न कइल गइल होखे।

एकरे बावजूद एह बात के गारंटी ना कइल जा सके ला कि बिसय पर लेख अलगा से होखहीं के चाहीं। संपादक लोग एक बिसय के दुसरा में बिलय करे, या दू या दू से ढेर लेख सभ के मिला के एकही लेख में रखे पर बिबेक अनुसार निर्णय ले सके ला। ई दिसानिर्देस एह बात के रूपरेखा बतावे ला कि कौनों बिसय अलगा से लेख भा लिस्ट बनावे खातिर केतना लायक बा। ई दिसानिर्देस सभ लेख या लिस्ट के सामग्री के पर कौनों सीमा ना लगावे लें। सामग्री के बारे में विकिपीडिया के तटस्थ नजरिया, सत्यापनीय चीज, मूल रिसर्च मनाहीं, विकिपीडिया का ना हवे, आ जियत लोग के जीवनी के नीति देखल जा सके लीं।

जनरल उल्लेखनीयता दिसानिर्देस[संपादन]

अगर बिसय के, बिसय से स्वतंत्र बिस्वसनीय स्रोत सभ में ब्यापक आ महत्त्व वाला कवरेज मिलल बा, अइसन मानल जाला कि बिसय अलगा से लेख या लिस्ट बनावे लायक बा।

  • "ब्यापक आ महत्त्व वाला कवरेज" में बिसय के सीधा तौर पर (डाइरेक्ट) आ डिटेल में बिबरण होला, ताकि ओहमें से सामग्री लेवे खातिर मूल रिसर्च के जरूरत न पड़े। कौनों बिसय के "ब्यापक आ महत्त्व वाला कवरेज", तुच्छ आ चलताऊ जिकिर भर से कहीं ज्यादा होला, भले स्रोत सामग्री के बिबेचन के मूल बिसय उहे बिसय न होखे।
  • "बिस्वसनीय" के मतलब बा कि स्रोत सभ के संपादकीय अखंडता (एडिटोरियल इंटीग्रिटी) के जरूरत होला ताकि उल्लेखनीयता के बिस्वास जोग संदर्भ दिसानिर्देस के अनुसार सत्यापन जोग मूल्यांकन कइल संभव हो सके। स्रोत के रूप में, कौनों भी तरह के मीडिया में प्रकाशित चीज हो सके ला, आ ई कौनों भी भाषा में हो सके ला। बिसय के कभर करे वाले दुसरहा स्तर के (सेकेंडरी) स्रोत के उपलब्धता उल्लेखनीयता के बढ़ियाँ टेस्ट हवे।
  • "स्रोत"[1] के दुसरहा स्रोत (सेकेंडरी सोर्स) होखे के चाहीं, काहें कि अइसन स्रोत उल्लेखनीयता के सभसे वस्तुनिष्ठ (ऑब्जेक्टिव, यानी कि ब्यक्तिनिष्ठ या सब्जेक्टिव ना) सबूत उपलब्ध करावे लें। कौनों संख्या नइखे फिक्स कि केतना गो स्रोत के जरूरत बा काहें से कि स्रोत सभ गुणवत्ता आ कभरेज के गहिराई के मामिला में अलग-अलग किसिम के हो सके लें, बाकी आमतौर पर एक से ढेर स्रोत के उमेद कइल जाला।[2] स्रोत के ऑनलाइन मौजूद होखल आ/या भोजपुरी में होखल जरूरी ना बाटे। एकही लेखक या संस्था द्वारा कई गो प्रकाशित चीज के आमतौर पर सिंगल स्रोत के रूप में मानल जाला, जब उल्लेखनीयता के जाँच कइल जा रहल होखे।
  • "बिसय से स्वतंत्र" के द्वारा अइसन प्रकाशित काम (पब्लिश्ड वर्क) सभ के बाहर कइ दिहल जाला जे लेख के बिसय रुपी ब्यक्ति या संस्था द्वारा या फिर कौनों जुड़ल ब्यक्ति या संस्था द्वारा प्रकाशित करावल गइल होखें। उदाहरण खातिर, परचार, प्रेस रिलीज, आत्मकथा, आ बिसय के खुद के वेबसाइट के स्वतंत्र ना मानल जाला।[3]
  • "मानल जाला" [4]के मतलब बा कि बिस्वास जोग स्रोत में ब्यापक आ महत्त्व वाला कवरेज एगो मान्यता निर्मित करे ला गारंटी ना, कि बिसय के सामिल कइल जाए के चाहीं। यानी एकरा के चुनौती दिहल जा सके ला आ डिटेल में चर्चा होखे तब इहो सोझा आ सके ला की ई बिसय अलगा से लेख बनावे लायक ना बा काहें कि ई विकिपीडिया का ना हवे के उल्लंघन क रहल बा, खासतौर से अंधाधुंध सामग्री के ढेर रखे के मनाहीं के उलंघन क रहल बा। [5]

अगर कौनों बिसय ऊपर बतावल उल्लेखनीयता के पैमाना पर सही ना उतर रहल होखे तब्बो ओह में कुछ सत्यापन लायक तथ्य अइसन हो सके लें, अइसन तथ्य सभ के संबंधित दूसर लेख में चर्चा कइल उचित हो सके ला।

नोट[संपादन]

  1. जेह में अखबार, किताब आ ई-बुक, पत्रिका, टीवी आ रेडियो डाकुमेंटरी, सरकारी एजेंसी सभ के रपट, आ एकेडेमिक जर्नल इत्यादि शामिल बा लेकिन ई लिस्ट अतने ले सीमित ना बा। अगर कई गो स्रोत ना मौजूद होखें, ई जरूर सत्यापन जोग होखे के चाहीं कि स्रोत तटस्थ नजरिया वाला बा, विस्वास जोग बा आ एगो सारगर्भित लेख लिखे खाती पर्याप्त डिटेल में जानकारी वाला बा।
  2. कई गो स्रोत के अभाव ई जाहिर करे ला कि लेख के बिसय के कौनों बड़हन बिसय के लेख में समाहित कइल ढेर नीक होखी। कई बेर कौनों एकही स्टोरी के कई गो अखबार मामूली हेर-फेर के साथ या लगभग एकही बात अलग-अलग हेडिंग के साथ छापे लें, बाकी एकही स्टोरी के कई स्रोत के रूप में ना देखल जा सके ला (भले कई जगह छपल होखे)। कई बेर जर्नल कई सभ में छपल अलग-अलग लेख भी हमेशा कई स्रोत (मल्टीपल सोर्स) ना हो सके लें खासतौर से तब जब लेखक लोग एकही स्रोत पर आधारित हो के लिख रहल होखे आ ओही बात या जानकारी के दोहराव क रहल होखे। एही तरह से, एकही लेखक के या एकही प्रकाशन के द्वारा सीरीज में छापल कई कई चीज के भी एक स्रोत के रूप में देखल जाला।
  3. बिसय द्वारा खुद प्रकाशित कइल स्रोत या बहुत नजदीकी कनेक्शन वाला ब्यक्ति, संस्था द्वारा प्रकाशित स्रोत के उल्लेखनीयता के मजबूत प्रमाण कबो ना मानल जाला। देखल जाय: विकिपीडिया:सत्यापन जोग#सवालिया निशान वाला स्रोत कि अइसन सिचुएशन के कइसे हैंडिल कइल जाय।
  4. "Presumed" अंगरेजी में लिखल बा।
  5. औरु बिस्तार से कहल जाय तब, बिस्वास जोग स्रोत में हर किसिम के कभरेज उल्लेखनीयता के सबूत होखे आ ओकरे आधार पर अलगा से लेख बनावल जा सके ई जरूरी ना बा; उदाहरण खाती, डाइरेक्टरी आ डेटाबेस, परचार सामग्री, एनांउंसमेंट के कॉलम, आ मामूली समाचार स्टोरी सभ जाँच के दौरान उल्लेखनीयता के साबित करे भर के ना पावल जा सके लीं भले बिस्वास जोग स्रोत में होखें।