मिशनरी पोजीशन

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मिशनरी पोजीशन; ई. हेनरी आर्विल द्वारा चित्रण
भारतीय पेंटिंग में देखावल मिशनरी पोजीशन

मिशनरी पोजीशन सेक्स के एगो पोजीशन भा आसन हवे; एह पोजीशन के इस्तेमाल सभसे आम मानल जाला। मिशनरी पोजीशन में औरत अपना पीठ भरे लेटल रहे ले आ मरद ओकरे ऊपर चढ़ के, दुनु एक दुसरे के ओर मुँह क के, सेक्स भा सेक्स संबंधी क्रिया करे लें। आमतौर प ई औरत मर्द के बीच होखे वाला सेक्स के पोजीशन हवे, हालाँकि, गे आ लेस्बियन सेक्स में भी एकर इस्तेमाल होखे के बतावल जाला।

मिशनरी पोजीशन में सेक्स, बुर में लाँड़ घुसा के भी कइल जा सके ला या फिर बिना घुसवले भी रगड़ के कइल जा सके ला। एह पोजीशन में औरत के टांग के उठाव के स्थिति से एकर कई उपप्रकार भी हो जालें - आम रूप में एह पोजीशन के इस्तेमाल बुर के टाईट होखे, क्लाइटोरिस पर रगड़ पैदा करे, घुसाव के गहिराई नियंत्रित करे भा मैथुन के दौरान क्लाइमेक्स ले चहुँपे के समय बढ़ावे-घटावे (सेक्स के स्पीड) खाती अलग-अलग कोण बना के घुसाव कइल जाला।

मिशनरी पोजीशन, बतावल जाला कि अइसन दंपति लोग ज्यादा पसंद करे ला जे रोमांटिक तरीका से सेक्स कइल चाहे, साथे-साथ चूमाचाटी आ एक दुसरे के स्पर्श आ आँखी में आँखि डार के देखे के पसंद करे। ई पोजीशन गरभ धारण करे के संभावना बढ़ावे वाला भी मानल जाला।

प्रकार[संपादन]

इहो देखल जाय[संपादन]

संदर्भ[संपादन]

बाहरी कड़ी[संपादन]