बँसुरी

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बँसुरी
Bansuri bamboo flute 23inch.jpg
एक ठो 23-इंच-लंबाई वाली बाँस के बँसुरी
दूसर नाँव मुरली, बंसी, वंशी, बान्ही
बर्गीकरण

भारतीय सुषिर साज
सप्तक बिस्तार

2.5 सप्तक (छह छेद वाली), 3 सप्तक (सात छेद वाली)
संबंधित साज

वेणु
कलाकार

कलाकार

बँसुरी, बंसी, या बँसुड़ी (हिंदी:बाँसुरी; संस्कृत:वंशी) बाँस के बने वाला बाजा हवे जेकरा के फूँक के बजावल जाला आ एकरे फोंफी नियर संरचना में निश्चित दूरी पर बनल छेद सभ के अँगुरी से बंद/खुला रख के अलग अलग सुर निकालल जाला। शास्त्रीय संगीत के कठिन सुरलहरी बजावे से ले के लड़िकन के खेलौना के रूप में ई साज इस्तेमाल होला। बँसुरी के दू गो रूप होला सीधी बँसुरी (जेकरा मुरली या मुरलिया भी कहल जाला) आ आड़ी बँसुरी (जेकरा बजावे में तिरछा क के पकड़ल जाला।

बँसुरी बहुत पुरान साज हवे आ भारतीय संस्कृति में कृष्ण के बँसुरी बजावत रूप के चर्चा मिले ला।