चौथी राम यादव

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चौथी राम यादव
जनम (1941-01-29) जनवरी 29, 1941 (उमिर 78)
कायमगंज, जौनपुर, उत्तर प्रदेश
पेशा प्रोफेसर
भाषा हिंदी
राष्ट्रीयता भारतीय
बिधा आलोचना, निबंध
बिसयसभ दलित बिमर्ष
प्रमुख रचनासभ वेद और लोक: आमने सामने
प्रमुख पुरस्कार साहित्य साधना सम्मान, कबीर सम्मान, लोहिया साहित्य सम्मान

प्रोफ़ेसर चौथी राम यादव (जनम: 29 जनवरी 1941)[1] हिंदी भाषा के लेखक बाने जिनके काम मुख्य रूप से आलोचना संबंधी निबंध बिधा में बा। यादव बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के रिटायर भ चुकल प्रोफेसर हवें आ वर्तमान में बनारस में रहे लें। अभिन भी इनके साहत्यिक सक्रियता बरकरार बा आ इनके कई ठे पुस्तक हिंदी साहित्य में चर्चा के बिसय बाड़ी स।[2]

हाल में इनके द्वारा बरेली में दिहल एगो भाषण प बिबाद भी भइल रहे जेह में एबीवीपी के कार्यकरता सभ के आरोप रहल कि यादव मोहन भागवत समेत संघ के पदाधिकारी लोग पर अपमानजनक टिप्पणी कइलें।[3]

जिनगी[संपादन]

यादव के जनम उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिला के कायमगंज में 29 जनवरी 1941 के भइल।

साहित्यिक योगदान[संपादन]

चौथी राम यादव के प्रमुख कृति सभ में सामिल बा:

  • उत्तरशती के विमर्श और हाशिए का समाज
  • हजारीप्रसाद द्विवेदी समग्र पुनरावलोकन और लोकधर्मी साहित्य की दूसरी धारा[2]
  • लोक और वेद: आमने सामने

सम्मान[संपादन]

चौथी राम यादव के कई ठे सम्मान मिलल बा जेह में से मुख्य बाड़ें - साहित्य साधना सम्मान (बिहार राष्ट्रभाषा परिषद, पटना), सावित्री त्रिपाठी सम्मान, अस्मिता सम्मान, कबीर सम्मान, आंबेडकर प्रियदर्शी सम्मान, अउरी लोहिया साहित्य सम्मान।[1]

संदर्भ[संपादन]

  1. 1.0 1.1 "चौथी राम यादव: हिंदी समय पर". hindisamay.com (Hindi में). हिंदी समय (महात्मा गांधी हिंदी विश्वविद्यालय के अभिक्रम). पहुँचतिथी 2 मार्च 2018.
  2. 2.0 2.1 कुशवाह, दिनेश (6 सितंबर 2015). "पुस्तकायन : पौ फटने का प्रतिमान". जनसत्ता. पहुँचतिथी 2 मार्च 2018.
  3. "भागवत पर टिप्पणी करने वाले काशी विद्यापीठ के रिटायर्ड प्रोफेसर चौथीराम यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज". यूनीवार्ता. 19 मार्च 2017. पहुँचतिथी 2 मार्च 2018.

बाहरी कड़ी[संपादन]