कालिदास

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
कालिदास
पेशा कवी, नाटककार
राष्ट्रीयता भारतीय
जुग c. 5वीं सदी ईसवी
बिधा संस्कृत नाटक, क्लासिकल साहित्य
बिसय महाकाव्य, पुराण
प्रमुख रचनासभ अभिज्ञानशाकुन्तलम्, रघुवंशम्, मेघदूतम्, विक्रमोर्वशीयम्, कुमारसंभवम्

कालीदास (संस्कृत:कालिदास) प्राचीन भारतीय कवी रहलें, इनके संस्कृत भाषा के सभसे महान कवि आ नाटककार मानल जाला। कालीदास कई गो नाटक आ काव्यरचना सभ के संस्कृत साहित्य में सभसे ऊँच जगह दिहल जाला, इनहन में से कुछ यूरोपीय भाषा सभ में अनुबाद होखे वाली संस्कृत के सभसे पहिला रचना हईं।

कालिदास के जनम स्थान आ समय के बारे में कई मत चलन में बा, हालाँकि ज्यादातर लोग उनके पांचवी सदी ईसवी में भइल माने ला।[1]

जनम स्थान[संपादन]

कालिदास मूल रूप से कहाँ के रहलें एकरे बारे में तीन गो प्रमुख मत बा, हिमालय के क्षेत्र के रहलें, उज्जैन के रहलें या कलिंग के रहलें। एह तीनों मत के कारण के रूप में कुमारसंभवम् में हिमालय के बेहतरीन बर्णन, मेघदूतम् में उज्जैन के खातिर उनके खास लगाव, आ रघुवंशम् काव्य में कलिंग के राजा के बारे में बहुत तारीफ़ भरल बिबरन के गिनावल जाला।

जीवन[संपादन]

कालीदास की जीवन की बारे में बहुत कुछ मालुम नइखे। जेतना पता बा कथा-कहानी आ उनके रचना सभ में से अनुमान पर आधारित बाटे।

रचना[संपादन]

  • अभिज्ञानशाकुन्तलम्
  • विक्रमोर्वशीयम्
  • कुमारसंभवम्
  • रघुवंशम्
  • मेघदूतम्
  • ऋतुसंहारम्


संदर्भ[संपादन]

  1. Encyclopædia Britannica. "Kalidasa (Indian author)".

बाहरी कड़ी[संपादन]