कलियुग

भोजपुरी विकिपीडिया से
इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं

कलि युग हिन्दू धर्म की मान्यता की अनुसार चारि गो युग में से एगो युग हवे। मान्यता कि अनुसार ई सतयुग, त्रेतायुगद्वापरयुग की बाद चौथा आ आखिरी युग हवे जेकरी बाद प्रलय हो जाला। मानल जाला कि ए युग का शुरुआत महाभारत की लड़ाई की बाद राजा परीक्षित की समय से भइल आ ए युग में पाप क मात्रा बढ़ जाले।

अउरी देखल जाय[संपादन]