हिमानी

भोजपुरी विकिपीडिया से
अहिजा जाईं: परिभ्रमण, खोजीं
आल्प्स पर्वत क सबसे बड़हन हिमानी - Grosser Aletschgletscher

हिमानी चाहे हिमनद चाहे हिमनदी (Glacier) गतिमान बरफ क ढेर होला जेवन अपने वजन की दबाव में पहाड़ी ढाल पर नीचे की ओर बहेला। पहाड़ की ऊपरी हिस्सा में बरफ इकठ्ठा हो के ढाल की अनुसार नीचे की ओर गति करे लागेले आ ठोस भइला की बावजूद बहे ले काहें से कि बरफ में बहाव क गुण पावल जाला जब एपर दबाब ढेर हो जाला। एही से बहुत ढेर बर्फ़ इकठ्ठा भइला पर ऊपर वाली बरफ की भार की दबाव में नीचे वाली बरफ में बहाव क गुण आ जाला।

बरफ क ई गतिमान बहाव एगो चादर की रूप में भी हो सकेला आ धारा की रूप में भी। पहाड़ की दुनो ढाल से बर्फ़ आ आ के घाटी में इकठ्ठा हो के अपने वजन की परभाव से नीचे की ओर धारा की रूप में बहे लागेले। धारा की रूप में ई हिमानी कई किलोमीटर लम्बा होला आ नीचे आ के जब गरम इलाका में आवेला त पघिल के पानी देला जेवना से अकसर नदी निकले ली। हिमालय पहाड़ से निकले वाली अधिकतर नद्दी कुल एही प्रकार से निकलेली। उदाहरण खातिर गंगा नदी गंगोत्री नाँव की हिमानी से निकलेली।