सच्चिदानंद वात्स्यायन

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन
जनम सच्चिदानंद वात्स्यायन
(1911-03-07)7 मार्च 1911
कसया, गोरखपुर जिला (अब कुशीनगर जिला में), उत्तर प्रदेश, ब्रिटिश भारत
निधन 4 अप्रैल 1987(1987-04-04) (उमिर 76)
नई दिल्ली, भारत
उपनाँव अज्ञेय
पेशा कवी, लेखक, पत्रकार, संपादक, क्रांतिकारी
राष्ट्रीयता भारतीय
प्रमुख रचनासभ शेखर: एक जीवनी
नदी के द्वीप
आँगन के पार द्वार
कितनी नावों में कितनी बार
प्रमुख पुरस्कार 1964: साहित्य अकादमी पुरस्कार
1978: ज्ञानपीठ पुरस्कार
1983: गोल्डन रेथ अवार्ड
भारत भारती पुरस्कार
जीवनसाथी कपिला वात्स्यायन

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" (7 मार्च 1911 – 4 अप्रैल 1987) हिंदी भाषा के कवि, लेखक, पत्रकार आ संपादक रहलें। रचनात्मक काम के अलावा अज्ञेय क्रांतिकारी आंदोलन के के हिस्सा भी रहलें। हिंदी साहित्य में इनका के नई कबिता आंदोलन आ प्रयोगवाद के अस्थापना आ परतिष्ठा करे वाला रचनाकार लोग में जानल जाला। अज्ञेय कुछ दिन ले पत्रिका दिनमान के संपादनो कइलें आ इनके संपादन में कबिता के संकलन तार सप्तक के प्रकाशन भी भइल।

शेखर: एक जीवनी, नदी के द्वीप, आँगन के पार द्वारकितनी नावों में कितनी बार इनके कुछ प्रमुख रचना सभ में गिनावल जा सके ला। लेखन के अलावा अज्ञेय अनुबादक के काम भी कइलें आ कई बिदेसी रचना सभ के हिंदी भाषा में अनुबाद कइलें। एकरे अलावा, आपन खुद के रचना सभ के भी अंगरेजी भाषा में आनुबाद कइलें। साहित्यिक योगदान खातिर इनके साहित्य अकादमी, ज्ञानपीठ, गोल्डन रेथ अवार्ड, आ भारत भारती पुरस्कार मिलल।

4 मार्च 1987 के 76 बरिस के उमिर में इनके दिल्ली में निधन भ गइल।

संदर्भ[संपादन]