राग यमन

विकिपीडिया से
Yaman
ठाट Kalyan
प्रकार Sampurna
समय Early night, 6–9
आरोह Ni Re Ga Ma(tivra Ma i.e. Ma#) Pa Dha Ni Sa'
अवरोह Sa' Ni Dha Pa Ma((tivra Ma i.e. Ma#)) Ga Re Sa
पकड़ Ni-Re-Ga-/Re-Ma(Kori Ma/tivra Ma i.e. Ma#)-Pa-/Ma(Kori Ma/tivra Ma i.e. Ma#)-Pa-Dha/Dha-Ni-Sa'(upper octave)
वादी Ga
संवादी Ni
पर्यावाची Kalyan
समकक्ष
समानता Yaman Kalyan

यमन चाहे इमन हिंदुस्तानी संगीत के एगो प्रमुख राग हवे। ई कल्याण ठाट के राग हवे आ एह में सातो सुर के इस्तेमाल होला। कल्याण ठाट के होखे के कारन एह में तीव्र मध्यम (म॑) के इस्तेमाल होला। एह तरीका से ई संपूर्ण-संपूर्ण जाति के राग हवे।

एकरा सभसे नगीचे के राग यमन कल्याण हवे जेह में हल्का सा इस्तेमाल शुद्ध मध्यम (म) के होखे ला।

भूपाली आ भैरव नियर रागन के साथे ई कुछ अइसन रागन में गिनल जा सके ला जे शुरूआती हवें आ संगीत सीखे-सिखावे में सभसे पहिले इनहन के ट्रेनिंग होखे ला।

बिबरन[संपादन करीं]

आरोह

ऩि रे ग, म॑ प, ध नि सां

अवरोह

सां नि ध प, म॑ ग रे सा

पकड़

ऩि रे ग रे, प रे, ऩि रे सा

इहो देखल जाय[संपादन करीं]

संदर्भ[संपादन करीं]