नहान

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं

नहान या अस्नान हिंदू धर्म में एक ठो पबित्र रीति रिवाज ह। कौनों नदी, समुन्द्र या कौनों भी जल के भण्डार में बुड़की मार के या कौनों पात्र में जल ले के अपना ऊपर डाल के अपनी शुद्धी के इच्छा कइल नहान कहाला। ई खाली शारीरिक शुद्धी ना बलुक मन में ब्याप्त दोष के हटा के मानसिक आ आत्मिक शुद्धी के माध्यम भी मानल जाला।

नहान के एगो अउरी अरथ प्रसूति-स्नान भी होला। बच्चा होखला के बाद महतारी आ बच्चा के सउरि से बाहर निकले से पाहिले नहान करावल जाला।

हिंदू धर्म में सभसे पबित्र मानल जाए वाली नदी गंगा में नहान के गंगा अस्नान कहल जाला आ ई सभ पाप के काटे वाला नहान मानल जाला।

कुछ ख़ास तिथी आ परब के भी नहान के नाँव से जानल जाला। जइसे खिचड़ी के नहान भा कातिक अस्नान।