चौरी चौरा कांड

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
शहीद समारक चौरी चौरा
चौरी चौरा शहीद स्मारक

चौरी चौरा कांड 4 फरवरी 1922 के गोरखपुर जिला के चौरी चौरा मे भइल रहे, जब असहयोग आन्दोलन के क्रांतिकारी लोग प पुलिस गोली चला दिहले रहे। एकर बिरोध मे क्रांतिकारी लोग एगो पुलिस स्टेशन प आक्रमन कइलस आ ओमे आगि लगा देलस, जेसे ओमे के सभ जाना मरा गइल। एह घटना मे 22 गो पुलिस आ 3 गो आम आदमी के मृत्यू भइल। महात्मा गाँधी, जे हिंसा के बिरोधी रहन, एह घटना के चलते, 12 फरवरी 1922 के आन्दोलन रोक दिहलन।[1] गांधी जी के एह फैसला के बादो, 19 गो लोग के फाँसी भइल आ 110 लोग के उम्रकैद के सजा सुनावल गइल।

पृष्ठभूमि[संपादन करीं]

1920, मे भारत के लोग, गांधी जी के प्रतिनिधित्व मे, असहयोग आंदोलन मे भाग लेले रहे।

संदर्भ[संपादन करीं]

  1. देसाई, रजनी एक्स (6 मार्च 2022). स्वतंत्रता संग्राम में भीतरघात ( Swatantrata Sangram mein Bhitarghat ) (in Hindi). K.K. Publication.