चूड़ी

विकिपीडिया से
सीधे इहाँ जाईं: नेविगेशन, खोजीं
भारत के बंगलौर में एक ठो दुकान पर सजल चूड़ी।

चूड़ी या चूरी कलाई मे पहिरल जाए वाला एक ठो गहना हवे। ई बेलोचदार ब्रेसलेट हवे जे धातु, सीसा, लकड़ी, प्लास्टिक इत्यादि से बने ला। पुरा दक्खिन एशिया में मेहरारू लोग में ई एक ठो पसंदीदा गहना हऽ। हिंदू औरत लोग एकरा के एहवात के चीन्हा माने लीं आ केहू एहवातिन औरत खाली हाथ ना रहे ला।[1] औरत लोग के अलावा छोट लड़िका बच्चा सब के पहिरे खातिर छोट-छोट चुड़िला बने ला। मरद लोग कड़ा पहिरे ला जे चूड़ी के ही एक ठो रूप हवे।

चूड़ी के एक ठो रूप कंगन होला। सोना आ चानी के कंगन महँगा गहना सभ में गिनल जाला।

संदर्भ[संपादन]