अवकलन

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

अवकलन कोनो असल चरक वला फलन के मान मे होकर चरक मे बदलाव के साथे आवे वला बदलाव के भागा होखेला। अवकलन कलन के एगो जरूरी अउजार हटे। उदाहरन बदे, स्थिति सदिक के समय के सपेक्ष् अवकलन वेग होला: हेकरा ले ई नपाला की कोनो चीझ कतना हाली हाली आपन अस्थान मे परीबरतन करऽता।

खाली एगो चरक वला फलन के अवकलन कोनो निश्चित बिंदु प स्पर्श पाई के प्रवनता चाहे स्लोप देवेला। अवकलन सभ के एक से बेसी असल चरक वला फलन सभो जोरे परयोग कईल जा सकेला।