लाइन

विकिपीडिया से
(पाई से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search

पाई चाहे सोझ पाई के बिचार पुरान गनितज्ञ लोग कोनो सोझ बस्तु के देखावे खातिर धइले रहे जेकरा लगे चौड़ाई आ गहराई ना होला। सतरहवा सदी ले पाई के अईसन एकाइ के देखावे बदे परयोग होखत रहे जेकरा भीरी खाली लंबाईं होखेला।

यूक्लिड पाई के "बिना चौड़ाई के लंबाईं" कहले रहन। आजकाल अलग अलग जयमिती पाई के अलग अलग तरीका से परिभासीत करेला। कार्टेशियन जयमिटी मे पाई एगो अईसन सतह होला जेकर बिंदुअन के पता रेखीय समीकरण के पालन करेला।