"लोकेशन" की अवतरण में अंतर

Jump to navigation Jump to search
बिस्तार
(स्टाइल/लेआउट गलती सुधारल)
(बिस्तार)
 
जगह के अपने आप में बिशिष्ट भइले की कारन ई भूगोल के आधार हवे, काहें से की भूगोल में प्राथमिक रूप से एही बात के पढ़ाई होला की कौनो चीज कौनी-कौनी जगह पर पावल जाला, या फिर कौनों जगह बिसेस पर कवन-कवन चीज मिलेला।
==तीन गो अर्थ==
भूगोल में आमतौर पर जगह शब्द के तीन गो अरथ में प्रयोग हो सकेला -
 
# पृथ्वी क कौनो हिस्सा (Space),
# अवस्थिति (Location) आ
# अइसन अस्थान जेवना के स्पष्ट पहिचान होखे (Place)।
 
एह में लोकेशन आ प्लेस में ई अंतर होला की लोकेशन पृथ्वी क कौनो भी बिंदु हो सकेला जइसे की 27° 59' N आ 86° 56' E एगो लोकेशन बा। बाकी जबले एकर पहिचान नइखे तबले ई अस्थान (प्लेस) ना कहाई। हँ, जब ई बता दिहल जाय की ई [[माउन्ट एवरेस्ट]] के लोकेशन हवे, तब ई एगो बिसेस जगह बन जाई जेवना के पहिचान भी साफ हो गइल। अब ई जगह के प्लेस कहल जाई।<ref>"...in contrast to location, it (place) is not used in an abstract sense but confined to an identifiable location on which we load certain values." - पीटर हैगेट, Geography:A Global Synthesis, (2001), pp.5</ref>
 
{{भूगोल-आधार}}
70,085

संपादन सभ

नेविगेशन मेनू