"होली" की अवतरण में अंतर

Jump to navigation Jump to search
कौनों संपादन सारांश नइखे
छो (clean up using AWB)
No edit summary
 
होली क त्योहार [[वसंत पंचमी]] से ही शुरू हो जाला ।ओही दिने पाहिले बार गुलाल उड़ावल जाला। एही दिन से [[फाग]] और [[धमार]] क गाना शुरू हो जाला। खेत में सरसो खिल उठेले। बाग- बगइचा में फूल क आकर्षक छटा छा जाला । पेड़-पौधे, पशु-पक्षी और मनुष्य सब उल्लास से परिपूर्ण हो जाते हैं। खेतों में गेहूँ की बालियाँ इठलाने लगती हैं। किसानों का ह्रदय ख़ुशी से नाच उठता है। बच्चे-बूढ़े सभी व्यक्ति सब कुछ संकोच और रूढ़ियाँ भूलकर ढोलक-झाँझ-मंजीरों की धुन के साथ नृत्य-संगीत व रंगों में डूब जाते हैं। चारों तरफ़ रंगों की फुहार फूट पड़ती है। होली के दिन आम्र मंजरी तथा चंदन को मिलाकर खाने का बड़ा माहात्म्य ह।
 
होली में लोगन के बहुत मज़ा आवेला ..
 
{{आधार}}
नामालूम प्रयोगकर्ता

नेविगेशन मेनू