वसुधैव कुटुंबकम

विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

वसुधैव कुटुंबकम (संस्कृत: वसुधैव कुटुम्बकम्) संस्कृत में रचल महा उपनिषद के एगो श्लोक के आखिरी टुकड़ा हवे जेकर माने होला - "पूरा धरतिये एगो परिवार हऽ"। एह वाक्य के अक्सरहा इस्तेमाल देखे के मिले ला आ ई भारतीय संस्कृति के ब्यापक दृष्टिकोण के सबूत के रूप में कोट कइल जाला। बाद के ग्रंथ सभ में भी एह वाक्य भा एह अरथ के इस्तेमाल मिले ला।

स्रोत[संपादन]

महा उपनिषद (महोपनिषद) में ई श्लोक आइल हवे।

अयं निजः परोवेति गणना लघुचेतसां।

उदारचरितानां वसुधैव कुटुम्बकम्॥

संदर्भ[संपादन]