मदन मोहन मालवीय

भोजपुरी विकिपीडिया से
अहिजा जाईं: परिभ्रमण, खोजीं

मदन मोहन मालवीय मुक्त ज्ञानकोष विकिपीडिया से मदन मोहन मालवीय १८६१-१९४३


मदन मोहन मालवीय जन्मस्थल : इलाहाबाद मृत्युस्थल: इलाहाबाद आन्दोलन: भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम प्रमुख संगठन: भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रणेता महामना पंडित मदन मोहन मालवीय इस युग के आदर्श पुरुष थे। अपने जीवन-काल में पत्रकारिता, वकालत, समाज-सुधार, मातृ-भाषा तथा भारतमाता की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वाले इस महामानव ने जिस विश्वविद्यालय की स्थापना की उसमें उनकी परिकल्पना ऐसे विद्यार्थियों को शिक्षित करके देश सेवा के लिए तैयार करने की थी, जो देश का मस्तक गौरव से ऊचा कर सकें। यह द्रष्टव्य है कि महामना मालवीय सत्य, ब्रह्मचर्य, व्यायाम, देशभक्ति तथा आत्म-त्याग में इस देश में अद्वितीय स्थान रखते थे। इस बात को दोहराने की आवश्यकता नहीं है कि उपर्युक्त समस्त आचरण पर महामना सदैव उपदेश ही नहीं देते थे, परन्तु उसका सर्वथा पालन भी किया करते थे। अपने व्यवहार में महामना सदैव मृदुभाषी रहे। कर्म ही उनका जीवन था। ढेर सारी संस्थाओं के जनक एवं सफल संचालक के रूप में उनकी विधि-व्यवस्था का सुचारू सम्पादन करते हुए भी रोष अथवा कड़ी बोली का प्रयोग कभी नहीं किया। [संपादित करें]वाह्य सूत्र

प्रज्ञा का महामना स्मृति अंक भिक्षुक सम्राट पं. मदन मोहन मालवीय जी महामना पंडित मदन मोहन मालवीय और पत्रकारिता महामना : अपने समकालीनों की दृष्टि में पृष्ठ मूल्यांकन देखें इस पन्ने का मूल्यांकन करे। यह क्या है? विश्वसनीय उद्देश्य पूर्ण अच्छी तरह से लिखा हुआ। मैं इस विषय (वैकल्पिक) के बारे में अत्यधिक जानकारी रखता हूँ।

मूल्याँकन जमा करे। श्रेणी: व्यक्तिगत जीवन