अर्थशास्‍त्र

भोजपुरी विकिपीडिया से
अहिजा जाईं: परिभ्रमण, खोजीं
इ पन्ना अर्थशास्त्र विषय से संबन्धित बा। कौटिल्य द्वारा रचित अर्थशास्त्र ग्रन्थ खातिर अहिजा देखीं।

अर्थशास्त्र सामाजिक विज्ञान के उ शाखा ह, जेकरा अन्तर्गत वस्तुवन आ सेवा कुल के उत्पादन, वितरण, विनिमय आ उपभोग के अध्ययन करल जायेला। 'अर्थशास्त्र' शब्द संस्कृत शब्दन अर्थ (धन) आ शास्त्र के संधि से बनल बा, जेकर शाब्दिक अर्थ ह - 'धन के अध्ययन'। कउनो विषय के संबंध में मुनष्यन के कार्यन के क्रमबद्ध ज्ञान के उ विषय के शास्त्र कहल जायला, इहे खातिर अर्थशास्त्र में मुनष्यन के अर्थसंबंधी कायन के क्रमबद्ध ज्ञान होखल आवश्यक बा।

अर्थशास्त्र के प्रयोग इहो बुझे खातिर भी कईल जायेला कि अर्थव्यवस्था कउना तरह से कार्य करेला आ समाज में विभिन्न वर्ग कुल के आर्थिक सम्बन्ध कइसन बा। अर्थशास्त्रीय विवेचना के प्रयोग समाज से सम्बन्धित विभिन्न क्षेत्रन में कईल जायेला, जैसे:- अपराध, शिक्षा, परिवार, स्वास्थ्य, कानून, राजनीति, धर्म, सामाजिक संस्थान और युद्ध इत्यदि।[१]

  1. Micro Economy